18 साल बाद सबूतों के अभाव में डा.राजकुमार अपहरण मामले में सभी 9 आरोपी बरी

18 साल बाद सबूतों के अभाव में डा.राजकुमार अपहरण मामले में सभी 9 आरोपी बरी

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Sep, 26 2018 05:44:34 PM (IST) | Updated: Sep, 26 2018 05:44:35 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

साल 2000 में वीरप्पन गैंग ने किया था कन्नड़ सुपर स्टार का अपहरण

 

बेंगलूरु. कन्नड़ सुपर स्टार डॉ. राजकुमार के सनसनीखेज अपहरण के 18 साल बाद तमिलनाडु में इरोड जिले के गोपीचेत्तीपलयम की एक अदालत ने सभी नौ आरोपियों को बरी कर दिया। चंदन तस्कर वीरप्पन और तेरह अन्य लोग राजकुमार के अपहरण के मामले में आरोपी थे। इनमें से अब नौ लोग ही जिंदा हैं।

अतिरिक्त जिला न्यायाधीश के मणि ने खचाखच भरी अदालत में कहा कि अभियोजन इस बात के सबूत पेश करने में भी विफल रहा है कि 9 लोग वीरप्पन व उसके सहयोगी सेतुकुली गोविंदन से जुड़े थे। लिहाजा संदेह का लाभ देते हुए सभी को बरी किया जाता है। इस मामले में करीब 8 साल पहले आरोपी बनाए गए मारन, इनियन, एंड्रिल, सत्या, नागराज, पुट्टुस्वामी, रामा, बसवण्णा तथा गोविंदराज को रिहा कर दिया गया।

वीरप्पन की साल 2004 में तमिलनाडु टास्क फोर्स के साथ हुई एक मुठभेड़ के दौरान तीन अन्य साथियों के साथ मौत हो गई थी। इस मामले का एक अन्य आरोपी रमेश अब भी फरार है।

वीरप्पन तथा उसके साथियों ने 30 जुलाई 2000 को डा.राजकुमार, उनके ***** एस.ए. गोविंदराज, सहायक निदेशक नागप्पा तथा अभिनेता के एक सहयोगी को इरोड जिले के तलवाड़ी स्थित उनके फार्म हाउस से अपहृत कर लिया था। न्यायाधीश ने फैसले में कहा कि इस मामले को कन्नड़ सुपर स्टार के अपहरण के नजरिए से नहीं देखा जाना चाहिए बल्कि एक भारतीय नागरिक के अपहरण के तौर पर लिया जाना चाहिए।

राजकुमार को वीरप्पन के पास पूरे 108 दिनों तक बंदी रखने के बाद छोड़ा गया था। उनकी रिहाई के लिए कई बार बातचीत की गई और तमिल पत्रिका नक्कीरन के संपादक आर.आर. गोपाल, तमिल राष्ट्रीय आंदोलन के नेता पाझा नेदुमारन सहित अन्य लोगों ने कर्नाटक सरकार के आग्रह पर अभिनेता की रिहाई के लिए जंगल में जाकर वीरप्पन से कई बार बातचीत की थी। हालांकि यह मामला साल 2000 में हुआ था लेकिन सीबी-सीआइडी ने साल 2011 में आरोप पत्र दायर किया।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned