उत्तर कर्नाटक के विकास के लिए उठाएंगे सभी कदम

मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव एनएच कोनरेड्डी ने कहा है कि उत्तर कर्नाटक के विकास के लिए सभी कदम उठाए जाएंगे।

By: शंकर शर्मा

Published: 03 Mar 2019, 10:53 PM IST

हुब्बल्ली. मुख्यमंत्री के राजनीतिक सचिव एनएच कोनरेड्डी ने कहा है कि उत्तर कर्नाटक के विकास के लिए सभी कदम उठाए जाएंगे। इसके अलावा महदायी आंदोलन तथा किसानों पर दर्ज मामलों को रद्द करने के लिए उचित कार्रवाई की जाएगी। शहर के सर्किट हाउस में शनिवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कोनरेड्डी ने कहा कि जनता को एचडी कुमारस्वामी के मुख्यमंत्री बनने का विश्वास था। इसी प्रकार मेरे विधानसभा चुनाव में हारने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा को कोनरेड्डी को राजनीतिक सचिव के तौर पर चयनित करने की इच्छा पहले से थी।


उन्होंने कहा कि उत्तर कर्नाटक में पार्टी संगठन कर उत्तर कर्नाटक की जनता को राजनीतिक तौर पर मिलने वाली सुविधाएं उपलब्ध करने तथा इस भाग के विकास के लिए परिश्रम करने के उद्देश्य से कार्य करूंगा। महदायी योजना के लिए 6 .4 लाख रुपए जमा किए गए हैं। उत्तर कर्नाटक के सर्वांगीण विकास के लिए परिश्रम करना हमारा लक्ष्य है।


लोकसभा चुनाव के बारे में कोनरेड्डी ने कहा कि पार्टी के वरिष्ठों के साथ बातचीत कर उचित फैसला लिया जाएगा। समन्वय सभा में 12 स्थान जद (ध) तथा 18 सीट कांग्रेस को देने का फैसला लिया गया है। इसके अलावा धारवाड़ लोकसभा क्षेत्र में चुनाव लडऩे को वरिष्ठ दबाव बना रहे हैं। विपक्ष के नेता कुमारस्वामी को सत्ता से हटाना चाह रहे हैं इन्हें विकास से कोई सरोकार नहीं है, वे विकास के लिए आवाज नहीं उठा रहे हैं। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता ही पार्टी की संपत्ति है इस दिशा में लोकसभा चुनाव के लिए रणनीति तैयार करने की जरूरत नहीं है। मंड्या तथा हासन में जद (ध) उम्मीदवार तय किया गया है।


उन्होंने कहा कि न्यायाधिकरण ने महदायी 13.5 टीएमसी पानी इस्तेमाल का फैसला सुनाया है। मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने केंद्र सरकार को ज्ञापन सौंपा है परन्तु केंद्र सरकार अधिसूचना जारी करने में आनाकानी कर रही है।

मानव तस्करी रोकने में सहयोग करें स्वंयसेवी संगठन: अतीक
बेंगलूरु. ग्रामीण विकास व पंचायत राज विभाग के प्रमुख सचिव एलके अतीक ने कहा कि मानव तस्करी तथा बंधुआ मजदूरी जैसी बुराइयों के उन्मूलन के लिए समाज व सरकार को साथ मिलकर कार्य करने की आवश्यकता है। वे शुक्रवार को यहां मानव तस्करी व बंधुआ मजदूरी का अंत करने के लिए विभिन्न स्वयंसेवी संस्थाओं द्वारा गठित ‘मुक्ति महासंघ’ के शुभारंभ अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि मानव तस्करी व बंधुआ मजदूरी कराना संगीन अपराध है और इनको खत्म करना एक बड़ी चुनौती है। इसे समाप्त करने के लिए स्वयंसेवी संस्थाओं को सरकार के साथ हाथ मिलाना होगा और इस तरह के अपराध करने वाले लोगों का पता लगाकर उनको सजा दिलानी होगी। जागरूकता लाने के लिए एक हेल्पलाइन शुरू करने की भी जरूरत है।


राज्य मानवाधिकार आयोग के अध्यक्ष डीएच वघेला ने कहा कि बंधुआ मजदूरी को बढ़ावा देने वालों का पता लगाना ही एक बड़ी समस्या है और यह कार्य स्वयंसेवी संस्थाओं को करके सरकार व पीडि़तों के बीच कड़ी की तरह काम करना होगा। बंधुआ मजदूरी से मुक्त हुई पापम्मा नामक महिला ने दर्दभरी आपबीती बयान की और सरकार से अपना जीवन संवारने के लिए सहायता देने की गुहार की।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned