अमित शाह आज से राज्य के दो दिवसीय प्रवास पर

- मंत्रिमंडल विस्तार को हरी झंडी मिलने की उम्मीदें बढ़ीं

हालांकि मुख्यमंत्री येडियूरप्पा ने कहा है कि वे राज्य के दौरे पर शाह के आने पर उनसे विस्तार ेके मसले पर चर्चा करके उनसे हरी झडी प्राप्त करने की कोशिश करेंगे लेकिन मुख्यमंत्री येडियूरप्पा की निरंतर उपेक्षा कर रहे शाह विस्तार की अनुमति दे ही देंगे यह तय नहीं है। वैसे मंत्रिपद के दावेदारों को शाह े के इस दौरे से बड़ी उम्मीदें हैं लिहाजा शाह का प्रदेश दौरा महत्वपूर्ण हो गया है।

बेंगलूरु
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह राज्य के दो दिवसीय प्रवास पर शुक्रवार को आ रहे हैं और इससे खटाई में पड़े मंत्रिमंडल के विस्तार की तारीख पक्की होने की उम्मीदें बढ़ गई हैं। हालांकि शाह के हरी झंडी देने के बाद भी मंत्रिमंडल का विस्तार तत्काल करना संभव नहीं होगा क्योंकि शाह के लौटने के अगले ही दिन सुबह मुख्यमंत्री येडियूरप्पा को एक सप्ताह के विदेश दौरे पर दाओस के लिए रवाना होना है।


अमित शाह से भेंट का समय लेने के तमाम प्रयास विफल हो जाने के बाद हालांकि मुख्यमंत्री येडियूरप्पा ने कहा है कि वे राज्य के दौरे पर शाह के आने पर उनसे विस्तार ेके मसले पर चर्चा करके उनसे हरी झडी प्राप्त करने की कोशिश करेंगे लेकिन मुख्यमंत्री येडियूरप्पा की निरंतर उपेक्षा कर रहे शाह विस्तार की अनुमति दे ही देंगे यह तय नहीं है। वैसे मंत्रिपद के दावेदारों को शाह े के इस दौरे से बड़ी उम्मीदें हैं लिहाजा शाह का प्रदेश दौरा महत्वपूर्ण हो गया है।


बहरहाल, शुक्रवार की शाम राजधानी बेंगलूरु पहुंच रहे अमित शाह राजभवन में रात्रि विश्राम करने के बाद शनिवार सुबह हुब्बली जाकर वहां सीएए के समर्थन में विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे और वहां से दुबारा बेंगलूरु लौटने के बाद वे पैलेस मैदान में एक धार्मिक कार्यक्रम में भाग लेकर शनिवार की शाम ही दिल्ली लौट जाएंगे।


इसी दौरान मुख्यमंत्री येडियूरप्पा ने शाह के साथ मंत्रिमंडल के विस्तार के मसले पर चर्चा करने का निर्णय किया है और वे संभवत:17 की रात को या 18 को शाह के साथ इस मसले पर चर्चा करके विस्तार की तारीख तय कर सकते हैं। शाह न जाने किस वजह से येडियूरप्पा से नाराज चल रहे हैं।

 

हालांकि उपचुनाव जीतने के बाद शाह व मोदी दोनों ने येडियूरप्पा की पीठ थपथपाई थी लेकिन इसके बाद मंत्रिमंडल के विस्तार के मसले पर आगा पीछा करना समझ से परे की बात है।
गत दिनों प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के तुमकूरु में कृषि मंत्रालय के कार्यक्रम में भाग लेन के दौरान येडियूरप्पा ने केन्द्र सरकार से बाढ़ राहत के लिए धन नहीं देने व सिंचाई परियोजनाओं को पूरा करने के लिए 50 हजार करोड़ रुपए का विशेष पैकेज देने की मंच से मांग की थी। संभवत: यही वजह है कि इससे क्षुब्ध होकर केन्द्रीय नेता येडियूरप्पा को मंत्रिमंडल के विस्तार की अनुमति नहीं दे रहे हैं। मंत्रिमंडल के विस्तार की अनुमति मिलती है या येडियूरप्पा को विदेश दौरे से लौटकर आने के बाद मिलने को कहा जाता है इस बारे में सारी स्थिति शाह के दो दिवसीय प्रवास से स्पष्ट हो जाएगी।

Surendra Rajpurohit Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned