scriptAttendance of children decreased by about 40 percent in schools | स्कूलों में करीब 40 फीसदी घटी बच्चों की उपस्थिति | Patrika News

स्कूलों में करीब 40 फीसदी घटी बच्चों की उपस्थिति

- ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर स्कूल प्रबंधन व अभिभावक चिंतित

बैंगलोर

Published: December 06, 2021 10:45:07 pm

बेंगलूरु. कोरोना महामारी के कारण प्रदेश में एक फिर से शैक्षणिक गतिविधियां प्रभावित होने लगी हैं। करीब 18 माह के बाद स्कूल खुलने से एक आशा की किरण जगी थी। लेकिन कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वैरिएंट ने फिर से सब को चिंता में डाल दिया है। कई स्कूलों ने ऑफलाइन कक्षाएं बंद कर ऑनलाइन कक्षाएं शुरू कर दी हैं जबकि अन्य कई स्कूल ऑफलाइन से ऑनलाइन होने की योजना में हैं। स्कूल प्रबंधनों के अनुसार स्कूलों में बच्चों की उपस्थिति आधी हो गई है। अभिभावक बच्चों को स्कूल भेजले से झिझकने लगे हैं। स्कूल के अनुसार कई अभिभावक वेट-एंड-वॉच नीति अपना रहे हैं।

स्कूलों में करीब 40 फीसदी घटी बच्चों की उपस्थिति
स्कूलों में करीब 40 फीसदी घटी बच्चों की उपस्थिति

मैनेजमेंट ऑफ इंडिपेंडेंट सीबीएसइ स्कूल एसोसिएशन (एमआइसीएसए) कर्नाटक के अध्यक्ष एम. श्रीनिवासन के अनुसार ऑफलाइन स्कूल शुरू कर चुके आधे से ज्यादा सदस्य स्कूलों ने फिर से ऑनलाइन कक्षाएं शुरू करने का निर्णय लिया है। ओमिक्रॉन वैरिएंट चिंता का कारण बनकर उभरा है। नौवीं और दसवीं कक्षा के छात्र स्कूल आ रहे हैं। लेकिन इनकी कक्षाएं भी एक सप्ताह के अंदर समाप्त हो जाएंगी। ज्यादातर स्कूल जनवरी तक के बाद ही ऑफलाइन कक्षाएं शुरू करने के पक्ष में हैं। बशर्ते स्थिति इजाजत दे।

श्रीनिवासन ने कहा कि कोविड के ज्यादातर मामले आवासीय स्कूलों में सामने आए हैं। देश में अभी तक ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामले सामने नहीं हैं। लेकिन सावधानी बरतने की जरूरत है।

एक प्रतिष्ठित स्कूल के संचालक ने कहा, 'हम तब असहाय महसूस करते हैं जब माता-पिता गारंटी मांगते हैं कि उनके बच्चे संक्रमित नहीं होंगे। स्कूल प्रबंधन ने शिक्षकों सहित स्कूल के सभी कर्मचारियों का टीकाकरण सुनिश्चित किया है। लेकिन टीकाकरण के बाद भी लोगों के संक्रमित होने के मामलों ने अभिभावकों को असमंजस में डाल दिया है। ऊपर से ऐसे कई बच्चे भी हैं जिनके अभिभावकों या फिर परिवार के सभी सदस्यों ने टीका नहीं लगवाया है।'

एक अन्य स्कूल की प्रिंसिपल ने बताया कि सभी के लिए ऑफलाइन कक्षाएं फिर से शुरू करने के प्रति अभिभावकों के दृष्टिकोण को समझने के लिए किए गए ऑनलाइन सर्वेक्षण में करीब 40 फीसदी अभिभावकों ने जनवरी से बच्चों को स्कूल भेजने की इच्छा जताई। बीते कुछ दिनों में बच्चों की उपस्थिति 30 फीसदी तक घटी है।

प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा मंत्री ने अभिभावकों से नहीं घबराने की अपील की है। उनके अनुसार स्थिति चिंताजनक नहीं है। स्कूलों को लेकर सरकार सही समय पर उचित निर्णय लेगी। जरूरत पड़ी तो कोविड-19 तकनीकी सलाहकार समिति से भी परामर्श लेंगे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.