बेंगलूरु प्रौद्योगिकी निवेश का वैश्विक पसंदीदा स्थल : सीएम

बेंगलूरु प्रौद्योगिकी निवेश का वैश्विक पसंदीदा स्थल : सीएम

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Nov, 30 2018 09:15:02 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

आइटी-बीटी में बेंगलूरु में 10 लाख को प्रत्यक्ष एवं 30 लाख को अप्रत्यक्ष रोजगार

'बेंगलूरु टेक समिट' के इस 21वें संस्करण का थीम है नवाचार एवं प्रभाव

बेंगलूरु. सूचना एवं प्रौद्योगिकी सम्मेलन 'बेंगलूरु टेक सम्मिट' का 21वां संस्करण गुरुवार को पैलेस ग्राउंड पर शुरू हुआ। तीन दिवसीय समारोह का उद्घाटन करने के बाद मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि कर्नाटक का यह प्रमुख आयोजन सूचना एवं जैव प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनियों के लिए एक अभिनव मंच है जो उद्योग जगत एवं समाज दोनों को बड़े स्तर पर लाभन्वित करेगा। उन्होंने कहा कि प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआइ) एवं रोजगार मुहैया कराने के मामले में कर्नाटक निर्विवाद रूप से देश में पहले पायदान पर है। आइटी-बीटी क्षेत्र में अकेले बेंगलूरु में 10 लाख से ज्यादा लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिला है जबकि 30 लाख लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार मिल रहा है। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु टेक सम्मिट से कर्नाटक में इन दोनों क्षेत्रों में और ज्यादा निवेश सुनिश्चित होगा और नए रोजगार सृजित होंगे। यह आयोजन मानव एवं पर्यावरण सहित सभी क्षेत्रों की विविध प्रकार की चुनौतियों को सूचना एवं जैव प्रौद्योगिकी द्वारा समाधान सुनिश्चित करने का मार्ग प्रशस्त करेगा। बेंगलूरु को आइटी-बीटी क्षेत्र का पसंदीदा गंतव्य बताते हुए कुमारस्वामी ने कहा कि हाल ही में एक कंपनी के अध्ययन में कहा गया है कि भारत में इंजीनियरिंग तथा अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी) क्षेत्र में वर्ष-2016 में 943 बहुराष्ट्रीय कंपनियां (एमएनसी) थीं जिनकी संख्या वर्ष-2017 में बढ़कर 976 पहुंच गई। इन एमएनसी के लगभग 65 प्रतिशत वैश्विक इन-हाउस सेंटर (जीआइसी) अमरीका हैं जबकि 37 प्रतिशत का जीआइसी बेंगलूरु में है। यह साबित करता है कि राज्य में प्रौद्योगिकी जुड़ाव निवेश के लिए मजबूत नींव का आधार है। कर्नाटक वास्तव में वैश्विक स्तर पर प्रौद्योगिकी निवेश के लिए पहली पसंद है।

स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, ऊर्जा क्षेत्रों को मिलेगा तकनीकी समाधान
राज्य के आइटी-बीटी मंत्री केजे जार्ज ने कहा कि नवाचार एवं प्रभाव के थीम पर शुरू हुआ इस वर्ष बेंगलूरु टेक सम्मिट विविध क्षेत्रों में तकनीकी समाधान मुहैया कराने की पहल करेगा जिसमें आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, आइओटी, ब्लॉक-चेन आदि शामिल हैं। इससे स्वास्थ्य, शिक्षा, कृषि, ऊर्जा सहित अन्य क्षेत्रों की चुनौतियों काा समाधान मिलेगा। उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र में लघु एवं मध्यम उद्योग और स्टार्टअप को प्रोत्साहन की आवश्यकता है। स्टार्टअप नीति के तहत राज्य सरकार समाजिक चुनौतियों का समाधान करने में स्टार्टअप का समर्थन और प्रोत्साहित करने का इरादा रखती है। उन्होंने कहा कि कर्नाटक ने आइटी-बीटी क्षेत्र की जरूरतों के हिसाब से अपनी नीतियां बनाई हैं।
उद्घाटन समारोह में अस्ट्रेलिया के क्वीनसलान पार्लियामेंट के नवाचार एवं पर्यटन उद्योग मंत्री केट जोन्स, भारत में फ्रांस के राजदूत अलेक्जेंडर जिगलर, बायोकॉन प्रमुख किरण मजूमदार शॉ, इंफोसिस के सह संस्थापक एस गोपालकृष्णन सहित भारत एवं विश्व की कई कंपनियों के प्रमुख उपस्थित हुए।

ड्रोन रेसिंग प्रतियोगिता मुख्य आकर्षण
टेक सम्मिट के असवर पर ड्रोन रेसिंग प्रतियोगिता मुख्य आकर्षण होगा। यह पहला मौका होगा जब दुनिया के अग्रणी ड्रोन रेसिंग पायलट अपनी प्रतिभा दिखाएंगे और ड्रोन उपयोग की महत्ता से अवगत कराएंगे। तीन दिनों तक चलने वाले आयोजन में 240 वक्ता, 3200 से ज्यादा डेलिगेट होंगे जबकि 250 से ज्यादा प्रदर्शनी लगाई जाएंगी।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned