दूध खरीदने का जिम्मा बीबीएमपी के अस्पतालों को

दूध खरीदने का जिम्मा बीबीएमपी के अस्पतालों को,-जननी सुरक्षा योजना में रुचि नहीं ले रहे ठेकेदार
-प्रति वर्ष 30 हजार लीटर दूध का होता है वितरण, बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) की ओर से संचालित अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं को सुबह, शाम दूध प्रदान किया जाता है। ठेकेदार दूध की आपूर्ति करने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। इसलिए अब दूध खरीदने का दायित्व इन अस्पतालों के अधिकारियों को सौंपा गया है।

By: Sanjay Kulkarni

Published: 03 Jan 2020, 07:48 PM IST

बेंगलूरु. बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) की ओर से संचालित अस्पतालों में गर्भवती महिलाओं को सुबह, शाम दूध प्रदान किया जाता है। ठेकेदार दूध की आपूर्ति करने में रुचि नहीं दिखा रहे हैं। इसलिए अब दूध खरीदने का दायित्व इन अस्पतालों के अधिकारियों को सौंपा गया है।
बीबीएमपी की मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी निर्मला के मुताबिक राज्य सरकार की जननी सुरक्षा योजना के अंतर्गत दूध वितरण होता है। इसके अंतर्गत अस्पताल में भर्ती गर्भवती और प्रसूता महिलाओं को सुबह, शाम 250 एमएल दूध प्रदान किया जा रहा है। योजना के लिए दो बार निविदाएं आमंत्रित की गई थीं, लेकिन किसी भी ठेकेदार ने प्रक्रिया में भाग नहीं लिया। इस कारण कुछ माह से दूध की आपूर्ति प्रभावित हो रही थी। इसलिए निर्णय किया है कि संबंधित अस्पतालों के अधिकारी ही प्रति दिन दूध खरीदने और वितरण की व्यवस्था करवाएंगे।
बीबीएमपी के अस्पतालों में दूध गर्म करने की व्यवस्था की जा रही है। धन की कोई कमी नहीं है। अगले 10 दिन में सबकुछ सुचारु होगा। शहर में बीबीएमपी की ओर से संचालित 32 अस्पतालों के लिए प्रतिवर्ष 30 हजार लीटर दूध खरीदा जाता है। जननी सुरक्षा योजना के लिए इस वर्ष के बजट में 15 लाख रुपए का आवंटन किया गया है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned