बीबीएमपी : वार्ड आरक्षण की मसौदा अधिसूचना जारी

फिलहाल पुरानी वार्ड संख्या बरकरार

By: Santosh kumar Pandey

Published: 15 Sep 2020, 10:05 PM IST

बेंगलूरु. राज्य सरकार ने बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) वार्ड आरक्षण पर महिलाओं, एससी-एसटी, सामान्य वर्ग, और अन्य के लिए एक मसौदा अधिसूचना सोमवार को जारी कर दी। विपक्ष का आरोप है कि मसौदे में प्रमुख नेताओं को जान बूझकर निशाना बनाया गया है।

बीबीएमपी परिषद का पांच साल का कार्यकाल गुरुवार को समाप्त हो गया। राज्य सरकार ने वरिष्ठ आईएएस अधिकारी गौरव गुप्ता को बीबीएमपी प्रशासक नियुक्त किया था। जबकि बीबीएमपी आयुक्त एन.मंजूनाथ प्रसाद ने स्थानीय निकाय के वरिष्ठ अधिकारियों को वार्डवार नोडल अधिकारी नियुक्त करने की घोषणा कर दी है।

एक संयुक्त प्रवर समिति ने वार्ड की संख्या 198 से बढ़ा कर 225 करने के साथ ही महापौर के कार्यकाल को 12 से 30 महीने तक बढ़ाने की सिफारिश की थी। हालांकि, आरक्षण का मसौदा 198 वार्ड के लिए ही प्रकाशित किया गया है। बीबीएमपी विधयक-2020 के 21 सितंबर से शुरू हो रहे अगले विधानमंडल सत्र के दौरान पेश होने की संभावना है।

शहरी विकास विभाग द्वारा जारी अधिसूचना में कहा गया है कि मसौदा सार्वजनिक हित को ध्यान में रखते हुए जारी किया गया है। अधिसूचना के अनुसार, सात दिनों के भीतर मसौदा अधिसूचना से प्रभावित कोई भी व्यक्ति, बेंगलूरु शहरी जिला उपायुक्त को वैध कारणों के साथ अपने सुझाव या आपत्तियां लिख कर दे सकता है।

विपक्ष ने लगाया आरोप
बीबीएमपी परिषद के पूर्व नेता प्रतिपक्ष अब्दुल वाजिद ने आरोप लगाया कि सरकार ने बीबीएमपी परिषद में प्रमुख कांग्रेस नेताओं को निशाना बना कर राजनीतिक लाभ के लिए रणनीति तैनात की थी। मंजूनाथ रेड्डी, गंगाम्बिका मल्लिकार्जुन, पद्मावती जी, संपत राज जैसे कई पूर्व महापौरों के प्रतिनिधित्व वाले वार्डों का आरक्षण बदल दिया गया है।

उन्होंने कहा कि जो लोग सत्ता पक्ष के खिलाफ बहुत मुखर थे, उन्हें निशाना बनाया गया है। अधिसूचना में स्पष्टता का अभाव है। सरकार को आरक्षण पर अधिसूचना जारी करने से पहले हर वार्ड में परिसीमन और जनसंख्या के बारे में विवरण तैयार करना चाहिए था। वार्ड संख्या बढ़ाने के प्रस्ताव चर्चा चल रही है। इस मामले पर विधानसभा में भी चर्चा होनी है। लेकिन, इसी बीच में अधिसूचना जारी कर दी गई है। साफ है कि सरकार समय पर चुनाव नहीं कराना चाहती है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned