बीबीएमपी के चुनाव अगले साल तक टले

वार्ड पुनर्गठन की समिति बनी

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 16 Oct 2020, 09:31 AM IST

बेंगलूरु. राज्य सरकार ने बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) की वार्ड संख्या 198 से बढ़ा कर 243 करने के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। बीबीएमपी वार्ड पुनर्गठन के लिए एक उच्च स्तरीय समिति का गठन कर छह माह में रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए गए हैं। इसका मतलब है कि अब बीबीएमपी के चुनाव अगले 8-9 माह तक होना संभव नही है।

शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव केए हिदायत उल्ला के अनुसार बीबीएमपी के आयुक्त समिति के अध्यक्ष होंगे। बेंगलूरु शहर जिले के जिला उपायुक्त, बेंगलूरु विकास प्राधिकरण (बीडीए)के आयुक्त तथा बीबीएमपी के राजस्व विभाग के विशेष आयुक्त सदस्य होंगे। छह माह के बाद यह समिति वार्डों के पुनर्गठन को लेकर रिपोर्ट पेश करेगी। उसके पश्चात 243 वार्डों के लिए आरक्षण सूची जारी करने के लिए और दो-तीन माह का समय लगेगा जिस कारण बीबीएमपी के चुनाव में देर होने की संभावना है।

वर्ष 2015 में बीबीएमपी के चुनाव वर्ष 2011 की जनगणना के आधार पर हुए थे। अब 2021 की जनगणना समय आ गया ा है। अगर नई जनगणना के आधार पर चुनाव कराने का फैसला लिया गया, तो वार्ड संख्या में और वृद्धि करनी होगी। जिसके परिणाम स्वरूप बीबीएमपी के चुनाव में और देर होने की संभावना है।

बीबीएमपी चुनाव में देर को लेकर कांग्रेस के कुछ पार्षदों ने कर्नाटक उच्च न्यायालय में जनहित याचिका दायर की थी। इस याचिका की सुनवाई करते हुए उच्च न्यायालय ने राज्य सरकार तथा बीबीएमपी को चुनाव समय पर करने के निर्देश दिए थे। अदालत के निर्देशों के तहत चुनाव कराने के लिए बीबीएमपी के 198 वार्ड का पुनर्गठन तथा आरक्षण की सूची भी तैयार की गई थी। इस प्रक्रिया के लिए करोड़ों रुपए खर्च किए गए। लेकिन अब फिर वार्डों के पुनर्गठन के लिए उच्च समिति का गठन किए जाने से यह खर्चा पानी मेें चला गया है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned