अभी किसी सफाई कर्मचारी को नहीं हटाएगा बीबीएमपी

अभी किसी सफाई कर्मचारी को नहीं हटाएगा बीबीएमपी

Rajendra Shekhar Vyas | Publish: Jul, 13 2018 10:37:02 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

दिन भर चली चर्चा: पार्षदों ने की आलोचना

बेंगलूरु. दिनभर चली चर्चा के बाद नगर सेवकों ने गुरुवार को फिलहाल शहर के स्थानीय- बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) के लिए नियमित सफाई कर्मचारी को नहीं हटाने का निर्णय लिया है। इसमें करीब 3300 वैसे सफाई कर्मचारी भी शामिल हैं, जो साल भर से कम अवधि से काम कर रहे हैं। इन कर्मचारियों को पालिका अपने मौजूदा मानक 700 की आबादी पर 1 सफाई कर्मचारी के आधार पर अतिरिक्त मान रहा है।
गुरुवार को पालिका परिषद की बैठक में महापौर आर संपत राज ने कहा कि दो दिन में सभी सफाई कर्मचारियों का छह महीने के बकाए वेतन का भुगतान सुनिश्चित करने के लिए कदम उठाए गए हैं।
बैठक में सभी पार्षदों ने दलीय सीमा से ऊपर उठकर पालिका के सफाई कर्मचारी और आबादी अनुपात संबंधी मानक की आलोचना की। पालिका आयुक्त एन मंजुनाथ प्रसाद ने कहा कि 1: 700 के अनुपात का मानक अंतिम नहीं है और आवश्यकता होने पर अतिरिक्त कर्मचारियों को तैनात किया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि सरकार ने पिछले साल ही सभी शहरी निकायों के लिए यह मानक तय किया था और पालिका ने इस साल कर्मचारियों को सीधे भुगतान करने की व्यवस्था अपनाने के बाद यह मानक अपनाया है।
बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) की मासिक बैठक में पार्षदों ने सफाई कर्मचारियों को नहीं हटाने की मांग की। जैसे ही बैठक आरंभ हुई नेता प्रतिपक्ष पद्मामाभ रेड्डी ने इस मामले को उठाया। उन्होंने कहा कि बेंगलूरु की आबादी 1.3 करोड़ है। इसके मद्देनजर 44 हजार सफाई कर्मचारियों की संख्या भी कम है। इसकी सख्या अधिक करने की जरूरत है। उन्होंने सफाई कर्मचारियों के बारे में गलत जानकारी देने वाले ठेकेदारों और वेतन जारी करने वाले पालिका के अधिकारियो के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की।
कांग्रेस, भाजपा और जनता दल एस के पार्षदों ने सफाई कर्मचारियों की सेवा बहाल करने की मांग की। रेड्डी ने कहा कि इसका कोई वैज्ञानिक आधार नहीं है कि 700 की आबादी पर 1 सफाई कर्मचारी और 750 घरों पर एक कचरा संग्रहण ऑटो हो।
एसीबी करेगा सफाई कर्मी आत्महत्या मामले की जांच
सफाई कर्मचारी सुब्रमणी के आत्महत्या मामले की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) को सौंपी गई है। महापौर संपतराज ने यह जानकारी दी। उन्होंने मासिक बैठक में गुरुवार को बताया कि उप मुख्यमंत्री डॉ.जी परमेश्वर ने यह जानकारी बुधवार को विधानसभा में दी थी। पालिका के मुख्य लेखाधिकारी महादेव के अनुसार पालिका में कुल 15,480 सफाई कर्मचारी स्थाई रूप से काम कर रहे हैं। हर माह उन्हें वेतन के तौर पर 27.1 करोड़ रुपए जारी किए जाते हैं। जून तक का वेतन सभी सफाई कर्मचारियो को दिया गया है। जनवरी से जून तक कुल 163 करोड़ रुपए जारी किए गए है। सभी सफाई कर्मचारियों को वेतन मिलने के बाद ही पार्षदों और अधिकारियों को वेतन देने का आदेश दिया गया है।

Ad Block is Banned