अंगुली में स्याही लगने से पहले: मंदिर से लेकर गौ पूजा तक

अंगुली में स्याही लगने से पहले: मंदिर से लेकर गौ पूजा तक

Ram Naresh Gautam | Publish: May, 13 2018 02:55:26 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येड्डियूरप्पा ने पूजा-अर्चना के बाद सबसे पहले सुबह 7 बजे ही पूरे परिवार के साथ मतदान किया

बेंगलूरु. जहां मतदाताओं में वोट डालने को लेकर उत्सुकता थी वहीं चुनावों में अपनी-अपनी किस्मत आजमा रहे नेताओं के मन में आशंका के बादल छाए हुए थे। कई वरिष्ठ नेता पूजा अर्चना करने और मंदिरों में भगवान के दर्शन कर वोटिंग के लिए गए तो कइयों ने वास्तु के हिसाब से ईवीएम नहीं रखे जाने पर आपत्ति जताई।

भाजपा के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार बीएस येड्डियूरप्पा ने पूजा-अर्चना के बाद सबसे पहले सुबह 7 बजे ही पूरे परिवार के साथ मतदान किया। वहीं बादामी और मोलकालमूरु से चुनाव लड़ रहे बीएस श्रीरामुलू गौ-पूजा के बाद मतदान के लिए निकले। मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या भी चामुंडेश्वरी मंदिर में पुत्र यतींद्र सिद्धरामय्या के साथ पूजा करने के बाद मतदान करने गए। चिक्कनायकहल्ली से चुनाव लड़ रहे एक जनताद दल (ध) प्रत्याशी सुरेश गौड़ा बंदरों को खाना खिलाने के बाद मतदान करने गए। चामुंडेश्वरी में मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या को टक्कर दे रहे जद (ध) उम्मीदवार जीटी देवेगौड़ा कथित तौर पर ईवीएम को वास्तु के हिसाब से नहीं रखे जाने पर नाराजगी जताई और उसे वास्तु के हिसाब से रखवाया।

 

नहीं बना पुल, किया बहिष्कार
जहां एक तरफ मतदान को लेकर हर वर्ग के लोगों में उत्साह था वहीं कुछ क्षेत्रों में नाराज मतदाताओं ने चुनाव का बहिष्कार किया। रायचूर जिले के लिंगसूर तालुक स्थित कड़ाडरागड्डी गांव के 750 मतदाताओं ने चुनाव का बहिष्कार किया। गांव के मतदाताओं ने कृष्णा नदी के ऊपर पुल बनाने की मांग को लेकर मतदान का विरोध किया। ग्रामीणों ने पहले ही चुनाव अधिकारियों को आगाह किया था कि अगर उनकी मांग पूरी नहीं हुई तो वे इसका बहिष्कार करेंगे। लेकिन, उनकी मांग पूरी नहीं हुई।

हालांकि, चुनाव अधिकारियों के साथ ही तहसीलदार ने काफी समझाने की कोशिश की लेकिन ग्रामीण अपने निर्णय पर डटे रहे। गांव के प्रवेशद्वार पर ग्रामीणों ने लकड़ी का कुंदा आदि रखकर बंद कर दिया था और ना तो चुनाव अधिकारी और ना ही किसी पुलिस कर्मी को गांव में प्रवेश करने दे रहे थे। दरअसल, बारिश होते ही इस गांव का संपर्क बाकी दुनिया से टूट जाता है।

हर साल यहां के लोगों को इस गंभीर समस्या से जूझना पड़ता है। वहीं कलबुर्गी एक मतदान केंद्र पर कुछ लोगों ने लोकसभा में कांग्रेस के नेता एम.मल्लिकार्जुन खरगे का घेराव किया। लोगों ने बेहतर बुनियादी सुविधाएं और पेयजल समस्या हल करने की मांग को लेकर खरगे का रास्ता रोक दिया। इस बीच तुरंत प्रभावी कदम उठाए जाने के आश्वासन के बाद लोगों ने उन्हें जाने दिया। चिकबल्लापुर जिले के बागेपल्ली के एक मतदान केंद्र पर भी मतदाताओं ने चुनाव का बहिष्कार किया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned