यातायात नियम तोडऩे में आगे रहे यह लोग, दिया लाखों जुर्माना

यातायात नियम तोडऩे में आगे रहे यह लोग, दिया लाखों जुर्माना
यातायात नियम तोडऩे में आगे रहे यह लोग, दिया लाखों जुर्माना

Santosh Kumar Pandey | Updated: 11 Sep 2019, 06:28:35 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

Most traffic violators in bengaluru, Motor Vehicles Act 2019, traffic violation in bangalore, police collected huge fine, औसत से बहुत ज्यादा राजस्व जुटा

बेंगलूरु. संशोधित मोटर वाहन अधिनियम लागू होने के पहले छह दिन में भी यातायात पुलिस और परिवहन विभाग के कोष में औसत से बहुत ज्यादा राजस्व जुटा है। इस अवधि में ७२ लाख रुपए से ज्यादा जुर्माना वसूल हुआ है। भारी भरकम जुर्माना राशि ने वाहन चालकों को सतर्क होने पर मजबूर कर दिया है।

शहर के व्यस्ततम चौराहों पर अक्सर सिग्नल हरा होने का इंतजार किए बिना ही कई बाइक चालक फुटपाथ पर वाहन चलाते थे, इससे राहगीरों की परेशानी होती थी। कई सड़कों पर निर्धारित 'जेब्रा क्रॉसिंगÓ पर ही वाहन खड़े होते थे। पैदलयात्रियों को वाहनों के बीच रास्ता बनाकर सड़क पार करना पड़ता था। अब ऐसे नजारे नहीं दिखते।

https://www.patrika.com/bangalore-news/helmet-dl-rc-insurance-traffic-rules-motor-vehicle-act-5073396/

हालांकि सहायक आयुक्त (यातायात पुलिस) बीआर रविकांते गौड़ा के मुताबिक इस कानून का लक्ष्य अधिक से अधिक राजस्व बटोरना नहीं, बल्कि नियमों का कड़ाई से पालन सुनिश्चित करना है। शुरुआती छह दिनों में यातायात नियमों के उल्लंघन के 6 हजार 813 मामले दर्ज कर वाहन चालकों से 72 लाख 49 हजार 200 रुपए का जुर्माना वसूला गया है। बाइक की पिछली सीट पर सवार के हेलमेट नहीं पहनने के सर्वाधिक 2 हजार 645 मामले दर्ज कर 26 लाख 45 हजार रुपए वसूले गए। बगैर हेलमेट बाइक चलाने के 1 हजार 968 मामले दर्ज कर 19 लाख 68 हजार रुपए जुटाए। वाहन चलाते समय मोबाइल पर बात करने वालों के खिलाफ 695 मामले दर्ज कर 13 लाख 90 हजार रुपए का जुर्माना वसूला गया है।

उन्होंने कहा कि सभी के लिए एकसमान मानदंड हैं, लिहाजा नियम का उल्लंघन करनेवाला संपन्न है या गरीब है, यह तर्क ही अनुचित है।

यातायात नियम तोडऩे में आगे रहे यह लोग, दिया लाखों जुर्माना
IMAGE CREDIT: patrika

बोले वाहन चालक
राजाजीनगर के निवासी एसवी श्रीनिवास ने कहा कि इस कानून की मंशा अच्छी है। मगर इसकी आड़ में किसी को बेवजह प्रताडि़त नहीं किया जाना चाहिए। साथ में सड़कों की हालात पर भी ध्यान देना चाहिए। शहर में सड़कों की हालत अच्छी नहीं होने से जाम लगता है, हादसे होते हैं। वसूली जाने वाली रकम का इस्तेमाल सड़कों की मरम्मत में हो।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned