बेसकाम की आय में 50 फीसदी गिरावट

बेंगलूरु बिजली वितरण कंपनी (बेसकाम) की आय में काफी गिरावट हुई है।

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 05 May 2020, 09:13 AM IST

बेंगलूरु.लॉकडाउन के कारण बेंगलूरु तथा आस-पास के क्षेत्रों में औद्योगिक इकाईयां ठप होने के कारण बेंगलूरु बिजली वितरण कंपनी (बेसकाम) की आय में काफी गिरावट हुई है।साथ में उपभोक्ताओं ने अप्रैल माह के बिल का ऑनलाइन पर भुगतान नहीं करने के कारण से बेसकाम को झटका लगा है।

बेसकाम के प्रबंध निदेशक राजेशगौडा के मुताबिक बेसकाम प्रति माह 1 करोड़ 10 लाख उपभोक्ताओं से लगभग 1600 करोड़ रुपए का बिल संग्रहण करता है।लेकिन अप्रैल माह में 800 करोड़ रुपए बिल संग्रहित हुआ है।इस बार घर-घर जाकर मीटर रिंडिग के आधार पर उपभोक्ताओं को बिल नहीं दिया गया था। बल्कि उपभोक्ता के पिछले तीन माह के बिल के आधार पर बिजली का औसतन बिल भेजा गया था। इस बिल का ऑनलाउन भुगतान करने की अपील की गई थी।

लेकिन अधिकतर उपभोक्ताओं की अपेक्षा यह थी की राज्य सरकार लॉकडाउन के कारण बैंक के ईएमआई के भुगतान की तर्ज पर पानी तथा बिजली का शुल्क को लेकर कुछ रियायते घोषित करेगी। इस अपेक्षा के कारण से कई उपभोक्ताओं ने ऑनलाइन पर भुगतान नहीं किया है।इस कारण से बिजली शुल्क संग्रहण में काफी गिरावट हुई है।आने वाले दिनों में उपभोक्ताओं को पहले की तरह घर-घर जाकर बिजली शुल्क का बिल दिया जाएगा।

साथ में उपभोक्ता बेसकाम की हेल्पलाइन 1912 पर भी बिजली शुल्क का विवरण प्राप्त कर सकते है। कई उपभोक्ताओं ने अबकि बार अधिक बिजली शुल्क की शिकायते की है। ऐसी शिकायतों का समाधान किया जा रहा है। उधर,कर्नाटक लघुउद्यम महासंघ के अध्यक्ष पी.राजू ने बेसकाम की ओर से लॉकडाउन के दौरान इकाईयां बंद होने के बावजूद न्यूनतम फिक्सड चार्ज वसूलने पर आपत्ती व्यक्त करते हुए ऐसे शुल्क से लघु उद्यमियों को राहत देने की मांग रखी है। इसके बावजूद इन इकाईयों को 10 से 15 हजार रुपए फिक्सड चार्ज के भुगतान का नोटिस थमाया जा रहा है।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned