महापौर पद के लिए कांग्रेस, भाजपा की दावेदारी

जद-एस के हाथ में तुरुप का पत्ता- जनता दल जिसके साथ उसे सत्ता

By: Sanjay Kulkarni

Published: 12 Jan 2021, 05:53 AM IST

मैसूरु. महापौर तथा उपमहापौर का कार्यकाल पूरा होने के कारण इस माह के अंतिम या फरवरी के पहले सप्ताह में इन पदों के चुनाव होंगे। 65 पार्षदों की इस महानगर पालिका में किसी भी दल के साथ स्पष्ट बहुमत नहीं होने से यहां की कभी भाजपा-जनता दल एस तो कभी जनता दल एस तथा कांग्रेस का गठबंधन सत्तारूढ़ होता है।

वर्ष 2018 के चुनाव के बाद यहां कांग्रेस तथा जनता दल-एस का गठबंधन सत्ता में है। पहले वर्ष में कांग्रेस का महापौर तो जनता दल-एस का उप महापौर बना था। दूसरे वर्ष में जनता दल-एस का महापौर तथा कांग्रेस का उप महापौर बना था। अभी तक कांग्रेस तथा जनता दल एस का गठबंधन सत्तारूढ़ था जिसके तहत जनता दल-एस की पार्षद तसनीम महापौर तो कांग्रेस के सी.श्रीधर उपमहापौर बने थे।

अब इन दोनों दलों के बीच दूरियां बढ़ रही है।इस राजनीतिक स्थिति लाभ उठाने के लिए भाजपा ने यहां जनता दल एस के साथ गठबंधन बनाने का मन बना लिया है। 65 पार्षदों की इस महानगर पालिका में भाजपा 22, कांग्रेस के 19 तथा जनता दल-एस के 18 एवं बसपा का 1 तथा 5 निर्दलीय पार्षद हैं। ऐसे में जनता दल-एस जिसके साथ गठबंधन करता है, उसे यहां पर सत्ता मिलती है।22 पार्षदों की भाजपा इस बार जनता दल-एस के साथ मिलकर महापौर पद पर दावा कर सकती है।

सीएम को सौंपेगी ज्ञापन

मैसूरु. कोरोना महामारी के कारण शहर में कोई विकास कार्य नहीं होने के कारण महापौर तसनीम ने कार्यकाल बढ़ाने की मांग की है। यहां कांग्रेस तथा जनता दल-एस का गठबंधन है। अगले माह महापौर का कार्यकाल पूरा हो रहा है। साथ में यहां अब जनता दल-एस तथा भाजपा के बीच नजदीकियां बढ़ रही है। ऐसे में नए महापौर का चयन किया जाना है।

उधर, महापौर का तसनीम का कहना है कि कोरोना महामारी के कारण गत एक वर्ष से विकास कार्यों के लिए अनुदान जारी नहीं होने से उनके कार्यकाल के दौरान कोई विकास कार्य संभव नहीं हुआ है। लिहाजा, वह चाहती हैं कि उनका कार्यकाल बढ़ाया जाए। इस मांग को लेकर वे सोमवार को मैसूरु आ रहे मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा को ज्ञापन सौंपेंगी।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साथ गठबंधन होने के बावजूद उन्हें प्रशासनिक कार्यों में कांग्रेस से कोई सहायता नहीं मिली है। गत वर्ष महानगर पालिका की आय में भारी गिरावट हुई है।उन्होंने कहा कि महानगर पालिका में कांग्रेस के साथ गठबंधन जारी रहेगा। इस बीच, जनता दल-एस के कई पार्षद कांग्रेस तथा भाजपा के साथ गठबंधन करने के बदले विपक्ष में रहने की बात कर रहे।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned