सिद्धू के खिलाफ बादामी से भाजपा ने श्रीरामुलू को उतारा

सिद्धू की तरह श्रीरामुलू भी दो सीटों से किस्मत आजमा रहे हैं

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या को दूसरी सीट पर कड़ी चुनौती देने की रणनीति के तहत भाजपा ने बादामी से बल्लारी के सांसद बी. श्रीरामुलू को उतारा है। हालांकि, मंगलवार सुबह जारी सूची में पार्टी ने छह सीटों के लिए उम्मीदवार बदले लेकिन उसमें बादामी और वरुणा के लिए उम्मीदवार की घोषणा नहीं की गई थी। इसके कुछ ही देर बाद श्रीरामुलू बादामी पहुंचे और पार्टी उम्मीदवार के तौर पर नामांकन पत्र दाखिल किया। सिद्धू की तरह श्रीरामुलू भी दो सीटों से किस्मत आजमा रहे हैं। पार्टी ने श्रीरामुलू को चित्रदुर्गा के मोलकालमूरु से भी उतारा है जबकि सिद्धरामय्या भी मैसूरु जिले की अपनी पुरानी सीट चामुंडेश्वरी से मैदान में हैं।
राजनीतिक हलकों में पहले से ही चर्चा थी कि बादामी से जातीय समीकरणों को देखते हुए सिद्धू के खिलाफ श्रीरामुलू को उतार सकती है। हालांकि, भाजपा ने अंतिम क्षणों तक बादामी व वरुणा से उम्मीदवार को लेकर संशय बनाए रखा लेकिन आलाकमान के निर्देश पर श्रीरामुलू नामांकन पत्र दाखिल करने बादामी पहुंच गए। नामांकन पत्र दाखिल करते समय श्रीरामुलू के साथ प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बी एस येड्डियूरप्पा, राज्य चुनाव प्रभारी प्रकाश जावडेकर, प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, विधानसभा में विपक्ष के नेता जगदीश शेट्टर भी मौजूद थे। इससे पहले श्रीरामुलू ने बनशंकरी मंदिर में पूजा-अर्चना की और रोड शो भी किया। मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने भी श्रीरामुलू के बाद नामांकन पत्र दाखिल किया। सिद्धरामय्या ने भी नामांकन से पहले बनशंकरी मंदिर में पूजा-अर्चना की और समर्थकों के साथ तहसीलदार कार्यालय पहुंचकर नामांकन पत्र दाखिल किया। सिद्धरामय्या के साथ जिला प्रभारी मंत्री आर. बी. तिम्मापुर, बादामी के मौजूदा विधायक बी.बी. चिम्मनकट्टी, पूर्व घोषित उम्मीदवार डा. देवराज पाटिल भी उपस्थित थे।
जद (ध) ने बदले तीन प्रत्याशी
नामांकन पत्र दाखिल करने के अंतिम क्षणों में जनता दल (ध) ने जयनगर विधानसभा क्षेत्र का प्रत्याशी बदल दिया। इस क्षेत्र में पहले रविकुमार को टिकट दिया था। अब काले गौड़ा पार्टी के प्रत्याशी होंगे। बोम्मनहल्ली से पार्टी ने फिल्म निर्माता के. मंजू के बदले उद्यमी टी.आर. प्रसाद गौड़ा बी फॉर्म दिया जबकि चिक्कबल्लापुर शिड्लघट्टा सेपार्टी ने विधायक एम. राजण्णा के बदले रवि कुमार को टिकट दिया।
अम्बरीश नहीं, रवि को मिला टिकट
अम्बरीश के नहीं मानने के बाद बाद मण्ड्या से कांग्रेस ने स्थानीय नेता रवि कुमार गणिगा को बी-फार्म दे दिया और रवि ने कुछ ही देर बाद नामांकन पत्र दाखिल कर दिया। अम्बरीश के असमंजस में रहने के बाद उनके करीबी अमरावती चंद्रशेखर, पूर्व मंत्री आत्मानंद सहित कई नेता लॉबिंग में जुटे रहे लेकिन चलुवराय स्वामी के करीबी होने के कारण रवि को टिकट मिल गया। बताया जाता है कि इसमें डी के शिवकुमार की बड़ी भूमिका रही। रवि को भी उम्मीदवार बनाए जाने पर भी अम्बरीश ने कांग्रेस पर हमला बोला। अम्बरीश ने आरोप लगाया कि जद (ध) के चलुवराय स्वामी और रमेश बंडी सिद्धेगौड़ा को पार्टी में शामिल करने से पहले उनसे विचार-विमर्श भी नहीं किया गया।

कुमार जीवेन्द्र झा
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned