शिवकुमार तथा सिद्धरामय्या को भाजपा ने दिया नोटिस

अपर्याप्त जानकारी के आधार पर बेबुनियाद आरोप नहीं लगाएं जा सकते।

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 01 Aug 2020, 08:54 AM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक भाजपा ने वेंटिलेटर, पीपीई, मास्क तथा सैनिटाइजर की खरीद में 2 हजार करोड़ रुपए के घोटाले का आरोप लगाने पर कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस समिति (केपीसीसी) के अध्यक्ष डीके शिवकुमार तथा विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या को नोटिस भेजे हैं।पार्टी के महासचिव विधान परिषद सदस्य एन रविकुमार ने यहां शुक्रवार को कहा कि एक ओर नेता प्रतिपक्ष राज्य सरकार के मुख्य सचिव को 20 बार खत लिखने के बावजूद इस सामग्री की खरीदी को लेकर कोई जानकारी नहीं मिलने की शिकायत करते हैं।

दूसरी ओर वे सामग्री की खरीद में 4 हजार 167 करोड़ रुपए खर्च करने में दो हजार करोड़ रुपए के भ्रष्टाचार का आरोप लगा रहे हैं।अगर राज्य सरकार ने उन्हें जानकारी ही नहीं दी तो उन्हें 4 हजार 167 करोड़ रुपए की खरीद का आंकड़ा कहां से प्राप्त किया। बगैर जानकारी या अपर्याप्त जानकारी के आधार पर बेबुनियाद आरोप नहीं लगाएं जा सकते। लिहाजा कांग्रेस के दोनों नेताओं को कानूनी नोटिस जारी कर उनके आवासीय पते पर भेजे गए हैं।

उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष तथा केपीसीसी अध्यक्ष के हर आरोप का जवाब दिया गया है। इसके बावजूद वे बेबुनियाद आरोपों को बार-बार दोहरा रहे हैं इसलिए नोटिस भेजा गया है। अगर दोनों कांग्रेस नेता बेबुनियाद आरोपों के लिए क्षमा याचना नहीं करेंगे तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि अगर नेता प्रतिपक्ष में थोडी सी भी नैतिकता शेष है तो उनको भ्रष्टाचार के मामले को लेकर आरोप लगाने के लिए कांग्रेस के अध्यक्ष डीके शिवकुमार के साथ प्रेसवार्ता नहीं करनी चाहिए हाल में दिल्ली में 40-45 दिनों तक शिवकुमार कहां थे यह बात सर्वविदित है।उन्होंने कहा कि भाजपा को नैतिकता पाठ पढ़ाने से पहले नेता प्रतिपक्ष को केपीसीसी के अध्यक्ष को नैतिकता सिखानी चाहिए। साथ में नेता प्रतिपक्ष को बताना होगा की जब वे (सिद्धु) सत्ता में थे तब उनको किसने और क्यों 70 लाख रुपए मूल्य की घडी का उपहार दिया था। इस घडी को उन्होंने क्यों विधानसभाध्यक्ष के कार्यालय में जमा कर दिया।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned