scriptभाजपा ने किया डीसी दफ्तरों के बाहर प्रदर्शन, आदिवासी कल्याण घोटाले में कार्रवाई की मांग | Patrika News
बैंगलोर

भाजपा ने किया डीसी दफ्तरों के बाहर प्रदर्शन, आदिवासी कल्याण घोटाले में कार्रवाई की मांग

विजयेंद्र ने कहा, यह अनिश्चित था कि सिद्धरामय्या कितने समय तक सीएम बने रहेंगे। उपमुख्यमंत्री डी.के. शिवकुमार को कमजोर करने के लिए उपमुख्यमंत्री के अधिक पद सृजित करने का मुद्दा उठाया गया। अब यह सीएम सिद्धरामय्या को महंगा पड़ रहा है। वह अपनी राजनीति में व्यस्त हैं। उन्हें लोगों की परवाह नहीं है।

बैंगलोरJun 28, 2024 / 10:31 pm

Sanjay Kumar Kareer

vijayendra-arrest
बेंगलूरु. भाजपा ने 187 करोड़ रुपये के आदिवासी कल्याण घोटाले में राज्य की कांग्रेस सरकार की संलिप्तता का आरोप लगाया और कार्रवाई की मांग करते हुए शुक्रवार को सभी जिला आयुक्तों (डीसी) के दफ्तरों का घेराव करने का प्रयास किया। पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं को डीसी दफ्तरों में प्रवेश करने से रोकने के लिए बैरिकेड्स लगा दिए और परिसरों में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनात की गई।
बेंगलूरु समेत सभी जिलों में भाजपा कार्यकर्ता डीसी दफ्तरों की ओर मार्च कर रहे थे। चिकमगलूर में पुलिस ने बैरिकेड्स कूदकर दफ्तर में घुसने की कोशिश कर रहे भाजपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया। दूध की कीमतों में बढ़ोतरी को लेकर भाजपा किसान मोर्चा शनिवार को विरोध-प्रदर्शन करेगा।
बेंगलूरु में प्रदेश अध्यक्ष बीवाई विजयेंद्र ने कहा, आदिवासी कल्याण बोर्ड को लेकर आंदोलन जारी रहेगा। मंत्री बी. नागेंद्र ने इस्तीफा दे दिया है, लेकिन कहानी यहीं खत्म नहीं होगी। मुख्यमंत्री अधिकारी को दोषी ठहराकर मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैं। भाजपा कार्यकर्ता पूरे राज्य में डीसी दफ्तरों का घेराव करेंगे। किसान महंगाई से तंग आ चुके हैं। पेट्रोल-डीजल और दूध के दाम बढ़ा दिए गए हैं।
विजयेंद्र ने कहा, यह अनिश्चित था कि सिद्धरामय्या कितने समय तक सीएम बने रहेंगे। उपमुख्यमंत्री डी.के. शिवकुमार को कमजोर करने के लिए उपमुख्यमंत्री के अधिक पद सृजित करने का मुद्दा उठाया गया। अब यह सीएम सिद्धरामय्या को महंगा पड़ रहा है। वह अपनी राजनीति में व्यस्त हैं। उन्हें लोगों की परवाह नहीं है। लोग कांग्रेस सरकार के शासन से सावधान हो गए हैं और कांग्रेस पार्टी पर भरोसा कम हो गया है।
उन्होंने आगे कहा कि आदिवासी कल्याण घोटाले के एक आरोपी सत्यनारायण वर्मा ने अदालत में कहा था कि पूर्व मंत्री नागेंद्र के करीबी सहयोगियों की ओर से उन्हें धमकाया जा रहा है। यह एक गंभीर आरोप है। लेकिन विशेष जांच दल (एसआईटी) ने आज तक पूर्व मंत्री नागेंद्र से पूछताछ करने की हिम्मत नहीं की है।
विजयेंद्र ने कहा, सरकार ने सत्ता में आने के एक साल बाद ही भरोसा खो चुकी है। एक स्वामी जी ने सीएम सिद्धरामय्या से उपमुख्यमंत्री शिवकुमार के लिए सीएम पद खाली करने को कहा है। लोग सोच रहे हैं कि क्या सरकार प्रभावी ढंग से काम कर रही है। चुनाव से पहले सिद्धरामय्या और शिवकुमार एक-दूसरे के प्रति प्यार दिखा रहे थे। अब, वे एक-दूसरे से उलझ गए हैं। राज्य में सड़क पर लड़ाई होने की संभावना है। हमें इंतजार करना होगा और देखना होगा कि चीजें कैसे उभरकर आती हैं।

Hindi News/ Bangalore / भाजपा ने किया डीसी दफ्तरों के बाहर प्रदर्शन, आदिवासी कल्याण घोटाले में कार्रवाई की मांग

ट्रेंडिंग वीडियो