scriptBring balance to life from the start | शुरू से ही जीवन में संतुलन लाएं | Patrika News

शुरू से ही जीवन में संतुलन लाएं

धर्मसभा का आयोजन

बैंगलोर

Published: March 29, 2022 08:13:10 am

बेंगलूरु. आचार्य देवेंद्रसागर सूरी सोमवार को रामनगर पहुंचे। आचार्य ने कहा कि आयु कितनी भी लम्बी क्यों ना हो, हम कभी भी संतुष्ट नही होते और जीवन जीने के लिए अतिरिक्त वर्षों की कामना करने लगते हैं। जीवन का यह खेल अद्भुत और निराला है। पहले पचीस वर्ष अपने करियर बना ने में लग जाते है। पचास वर्ष की आयु तक ग्रहस्थ बनकर गड्ढे की भांती परिवार का बोझ उठाता है। जब परिवार को उसकी जरूरत नहीं लगती तो वह घर में केवल कुत्ते की भांति रखवाली करने के लिए छोड़ दिया जाता है, फिर बारी आती है उल्लू समान जीवन जीने की यानी नींद कम आती है और रातें भी जाग कर काटनी पड़ती हैं। जीवन की प्रत्येक अवस्था में कुछ ना कुछ लगा ही रहता है पर फिर भी हम हैं की सुधरते ही नहीं। यह सब देखकर, बेहतर यह है की हम शुरु से ही भगवान के साथ जुड़ें। अपनी सांसारिक ज़िम्मेदारियों में इतना ना उलझें की अपने जीवन की खैर खबर ही ना रहे। शुरु से ही जीवन में संतुलन लाएं और केवल संसार से अपना मन हटा कर भगवान को भी याद करते रहें। यदि हम ऐसा करते हैं तो जीवन की अंतिम चरण की यात्रा सुखद और शांत हो सकती है। जीवन के हर पल में आपको अपनी सतत यात्रा जारी रखनी होती है।आपके हालात, परिस्थिति और समय कैसे भी हों, आपकी यात्रा जारी ही रहती है। आप खुश हैं, दुखी हैं, सुख में हैं या किसी परेशानी में है।आपकी अन्य गतिविधियां, क्रियाकलाप ठहर सकते हैं, मगर कभी ऐसा नहीं देखा गया कि जीवन यात्रा ग्रहों की तरह ही चलायमान है। संभवत ऐसा इसलिए भी है कि यह हमें प्रेरित करने, चलते रहने का सूत्र दे रहा है और हम उसे नजरअंदाज करने की कोशिश में भ्रम का शिकार बने बैठे हैं।
शुरू से ही जीवन में संतुलन लाएं
शुरू से ही जीवन में संतुलन लाएं
उपवास आहार संज्ञा को तोडऩे के लिए होता है-आचार्य महेन्द्रसागर
धर्मसभा का आयोजन
बेंगलूरु. नाकोड़ा पाश्र्वनाथ जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ राजाजीनगर में विराजित आचार्य महेंद्रसागर सूरी ने कहा कि वह लोग भगवान की पूजा करने पर भी भगवान के दोषी हैं। क्योंकि भगवान ने विषय कसाय को छोडऩे के लिए कहा और वह विषय कषाय से मिलने वाले सुखों को पाने के लिए उनकी पूजा करते हैं। भगवान ने कहा कि वितरागता के मार्ग पर जाइए और हम तो वीतराग की भक्ति के द्वारा भी राग द्वेष को पुष्ट कर रहे हैं। अपने वैषयिक सुखों की मूर्छा उतर जाए और त्याग के पथ पर हम चलें इसलिए भगवान की पूजा करते हैं। परंतु उससे विपरीत ही व्यक्ति की भावना हो रही है। धर्म विषय सुखों की वासना, आसक्ति कम करने के लिए होता है। उसकी जगह व्यक्ति की वैषयिक सुखों की लालसा बढ़ रही है। सामाजिक के द्वारा अनुकूलता का राग तोडऩा होता है। उसकी जगह समय के द्वारा भी अनुकूलता को ही पोसा जा रहा है। उपवास आहार संज्ञा को तोडऩे के लिए करना होता है ना कि पारणे में आहार की आसक्ति को बढ़ाने के लिए। इसलिए लग रहा है कि भगवान को पूजने पर भी हम उनके दोषी बने हुए हैं। धर्म आराधना करके और प्रभु की पूजा करके हमें गुण के स्वामी बनना है। इस अवसर पर संघ के अनेक श्रावक व श्राविकाओं ने प्रवचन श्रवण का लाभ लिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी केसः बहस पूरी, 1991 का वर्शिप एक्ट लागू होगा या नहीं, कल होगा फैसला, जानें सुनवाई से जुड़ी हर बातबीजेपी नेता किरीट सोमैया की पत्नी ने शिवसेना के संजय राउत के खिलाफ दर्ज कराया 100 करोड़ का मानहानि का मुकदमालैंड होते ही झटके से रूक गया यात्री विमान, सांस थामे बैठे रहे यात्रीजम्मू और कश्मीर: आतंकियों के निशाने पर सुरक्षा बल, श्रीनगर में जारी किया गया रेड अलर्टजापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरबिहार में पटरियों पर धरना-प्रदर्शन के चलते 23 ट्रेनें रद्द, 40 डायवर्ट की गईं
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.