सर्वजनहिताय होगा बजट : कुमारस्वामी

स्टील ब्रिज परियोजना पर सरकार का रुख नहीं किया साफ

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि 8 फरवरी को पेश किया जाने वाला बजट किसानों, गरीब व मध्यम वर्ग सहित समाज के सभी वर्ग के अनुकूल होगा।
कुमारस्वामी ने सोमवार को कहा कि उप मुख्यमंत्री जी. परमेश्वर के साथ मिलकर तैयार किए गए बजट में गठबंधन के घटक दलों के न्यूनतम साझा कार्यक्रम के अलावा पिछली सरकार के कार्यक्रम जारी रखकर सर्वजन हिताय बजट पेश किया जाएगा। राज्य में 85 फीसदी लोग बीपीएल कार्ड धारक हैं और उनके हित के कार्यक्रमों के लिए धन जुटाना एक चुनौती है। महानरेगा, सर्व शिक्षा अभियान, आयुष्मान भारत तथा स्कूली बच्चों के लिए गणवेश वितरण की योजनाओं के लिए केंद्र सरकार ने अभी धन नहीं दिया है जिसकी वजह से फिलहाल यह धन भी राज्य सरकार को देना पड़ रहा है।
राज्य में भारी पूंजी निवेश की उम्मीद
कुमारस्वामी ने कहा कि राज्य में विदेशों से निवेश के लिए उद्योगपति आ रहे हैं और अनेक अंतरराष्ट्रीय बैंक भी निवेश कर रहे हैं। आगे भी राज्य में भारी पूंजी निवेश होगा। उन्होंने शिक्षित युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराना सरकार की पहली वरीयता बताते हुए कहा कि इसके लिए 9 जिलों में उद्योगों की स्थापना को प्रोत्साहन दिया है। इससे रोजगार के अवसर सृजित होंगे।
स्टील ब्रिज परियोजना के बारे में उन्होंने कहा कि बेंगलूरु के लोगों का भला होना चाहिए। यातायात की समस्या का हल तलाशने का प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के साथ लोकसभा सीटों के तालमेल के दौरान उत्तर कर्नाटक की तीन सीटों से भी जद-एस के उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे। उन्होंने कहा कि हम बजट में 47 हजार करोड़ रुपए का कृषि ऋण एकमुश्त माफ करने जा रहे हैं और साथ ही किसानों को मुफ्त बिजली देने के लिए 11 हजार करोड रुपए दे रहे हैं। दुग्ध उत्पादकों को 1300 करोड़ रुपए की सिब्सिडी दी जा रही है। हम केंद की तुलना में किसानों व लोगों को सौ गुना अधिक दे रहे हैं।
पूर्ण नशाबंदी लागू करना असंभव
कुमारस्वामी ने राज्य में पूर्ण नशाबंदी लागू करना असंभव बताते हुए कहा कि सरकार को करीब 20 हजार करोड़ रुपए का आबकारी राजस्व मिलता है। कहने को गुजरात सहित कुछ राज्यों में नशाबंदी लागू है पर वहां चोरी छिपे शराब की बिक्री धड़ल्ले से होती है। मुख्यमंत्री ने दावा किया कि राज्य में कर संग्रहण अपेक्षा से कहीं अधिक हुआ है लिहाजा धन की कोई कमी नहीं है और वित्तीय स्थिति मजबूत है।

Rajendra Vyas Editorial Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned