भैसों की दौड़ एक साल बाद फिर शुरू

तटीय कर्नाटक में हर साल होने वाली पारंपरिक भैंसों की दौड़ यानि कंबला एक साल के अंतराल के बाद शनिवार को फिर शुरू हो गई

By: शंकर शर्मा

Published: 12 Nov 2017, 09:29 PM IST

बेंगलूरु. तटीय कर्नाटक में हर साल होने वाली पारंपरिक भैंसों की दौड़ यानि कंबला एक साल के अंतराल के बाद शनिवार को फिर शुरू हो गई। दक्षिण कन्नड़ जिले के मूड़बिदरी में इसका २४ घंटे लंबा आयोजन सुबह को शुरू हो गया। वहां उत्सव का माहौल था।


कर्नाटक हाई कोर्ट ने पिछले साल नवंबर में पेटा की ओर से दायर एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए कंबला के आयोजन पर रोक लगा दी थी। राष्ट्रपति ने इस जुलाई में पशु अत्याचार निरोधक अधिनियम को मंजूरी दी थी, जो जनवरी २०१८ तक प्रभावी रहेगी। पेटा ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी लेकिन ६ नवंबर को कोर्ट ने इस पर कोई अंतरिम आदेश देने से इंकार कर दिया। इस मामले में अगली सुनवाई १३ नवंबर को होनी है।


मूड़बिदरी के कड़लकेरे में जोड़ूकरे (दोहरे ट्रैक वाली) २४ घंटे की भैंसों की दौड़ शनिवार सुबह शुरू हो गई जो रविवार सुबह ८:३० बजे तक चलेगी। इस साल कंबला के सीजन में दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जोड़ूकरे कंबला समिति के तत्वावधान में नवंबर से मार्च तक ऐसी १९ दौड़ों का आयोजन किया जाएगा। इस साल होने वाली अंतिम दौड़ का आयोजन मार्च २०१८ में मेंगलूरु के पास तलपाड़ी में होगा। इसके अलावा तटीय कर्नाटक में करीब १५० और दौड़ों का आयोजन भी किया जाएगा।


५० जोड़ी भैंसों ने दक्षिण कन्नड़ और उडुपी जोड़ूकरे कंबला समिति के पदाधिकारी मूड़बिदरी के विधायक के. अभयचंद्र जैन शनिवार को उदघाटन कार्यक्रम में उपस्थित थे। कड़लकेरे में सुबह करीब १०:३० बजे ५० जोड़ी भैंसे इस दौड़ में भाग लेने पहुंचे। एक साल बाद दौड़ों का आयोजन फिर शुरू होने से भैंसों के मालिक और रेस लगाने वाले बेहद प्रसन्न नजर आए।

उपेंद्र ने लॉन्च किया अपनी पार्टी का ‘एप’
कन्नड़ के मशहूर अभिनेता उपेंद्र ने शनिवार को अपनी राजनीतिक पार्टी कर्नाटक प्रजाकीय जनता पार्टी (केपीजेपी) का ऐप जारी किया है। प्रेस क्लब में आयोजित समारोह में उन्होंने कहा कि पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव में सभी 224 सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी। प्रत्याशी का साक्षात्कार कर उसका चयन होगा। उन्होंने कहा कि पार्टी सोशल मीडिया के माध्यम से चुनाव प्रचार करेगी। किसी भी प्रत्याशी काचयन धनबल, बाहुबल के मानदंड पर नहीं किया जाएगा।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned