गरीब व ग्रामीण क्षेत्र के कैंसर मरीजों का नि:शुल्क उपचार करे सरकार

भारत-अमरीका और भारत-यूनाइटेड किंगडम भारत में कैंसर अनुसंधान पर एक साथ आने की संभावनाएं तलाश रहे हैं

By: शंकर शर्मा

Published: 12 Nov 2017, 04:58 AM IST

बेंगलूरु. द्वितीय भारतीय कैंसर कांग्रेस (आईसीसी) के दूसरे दिन शुक्रवार को कैंसर विशेषज्ञों ने विभिन्न प्रकार के कैंसर, उसके उपचार व प्रबंधन पर मंथन किया। नेशनल सेंटर फॉर डिजीज इंफॉर्मेटिक्स ने कैंसर के मृतकों को इलेक्ट्रॉनिक मृत्यु प्रमाण पत्र देने की घोषणा की है। भारत-अमरीका और भारत-यूनाइटेड किंगडम भारत में कैंसर अनुसंधान पर एक साथ आने की संभावनाएं तलाश रहे हैं।


राज्य पाल वजूभाई वाळा ने गुरुवारक को आई सी सी का उद्घाटन करने के बाद कहा था कि कैंसर से जूझ रहे देश के गरीब व ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को सर कार नि:शुल्क चिकित्सा उपलब्ध कराए। राज्य पाल ने इस अवसर पर कैंसर संबंधित दो पुस्त कों का विमो चन भी किया था।


मुख कैंसर के आधे मरीज भारत में
कैंसर विशेषज्ञों के अनुसार देश भर में कैंसर के मरीजों की संख्या बढ़ी है। जो चिंताजनक है। कैंसर विशेषज्ञों ने बताया कि देश में करीब ३३ लाख कैंसर के मरीज हैं। कैंसर मरीजों की सूची में हर साल करीब एक लाख नए मरीज जुड़ते हैं। हर साल कैंसर के करीब छह लाख मरीजों की मौत होती है। विश्व के ओरल कैंसर के आधे मरीज भारत में हैं। बेंगलूरु में कैंसर के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। पुरुष से ज्यादा महिलाएं कैंसर की जद में हैं। बेंगलूरु में प्रति एक लाख की आबादी पर ११३ पुरुष और १३९ महिलाएं कैंसर का शिकार होती हैं। आईसीसी के अध्यक्ष डॉ. केएस गोपीनाथ और महासचिव डॉ. रमेश बी. भी ने भी कार्यक्रम में भाग लिया।

पॉवरग्रिड को ‘स्वस्थ कार्यस्थल’ पुरस्कार
पावर ग्रिड कॉरपोरेशन इंडिया लिमिटेड ‘पावरग्रिड’ को स्वस्थ कार्य स्थल पुरस्कार 2017 से सम्मानित किया गया है। पावरग्रिड की ओर से महाप्रबंधक प्रभारी (मानव संसाधन विकास) अनिल सबर वाल ने आरोग्य वलर््ड से यह पुरस्कार प्राप्त किया। इस अवसर पर उप महाप्रबंधक वी.के. सिंह, बी.एस. राव भी उपस्थित थे।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned