अदालत का फैसला स्वागत योग्य : मुख्यमंत्री

व्यक्तिगत तौर पर अदालत के इस फैसले का स्वागत

By: Sanjay Kulkarni

Published: 30 Sep 2020, 10:18 PM IST

बेंगलूरु. मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के मामले में लखनऊ की सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि 28 वर्षों के बाद इस मामले के सभी 32 आरोपियों को निर्दोष करार देने का फैसला ऐतिहासिक तथा स्वागतयोग्य है।

यहां बुधवार को उन्होंने कहा कि अयोध्या में श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर के पुनर्निमाण के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी के नेतृत्व में राष्ट्रव्यापी अभियान चलाया गया था। उन्होंने कहा कि इस मामले की सुनवाई के पश्चात आए फैसले से इन आरोपियों को फंसाने की वोटबैंक की राजनीति करनेवाले राजनेताओं की सोची समझी रणनीति का पर्दाफाश हुआ है। मैं व्यक्तिगत तौर पर अदालत के इस फैसले का स्वागत करता हूं।

अदालत का फैसला सच्चाई की जीत : सवदी

बेंगलूरु. उप मुख्यमंत्री लक्ष्मण सवदी ने अयोध्या में विवादित ढांचा गिराए जाने के मामले में लखनऊ की सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले को सच्चाई की जीत बताया है। इस मामले के सभी 32 आरोपियों को निर्दोष करार दिया गया।यहां बुधवार को उन्होंने कहा कि सदियों से हमें इस सिखाया गया है कि हमेशा जीत सच्चाई की ही होती है। अदालत के फैसले ने इस बात की पुष्टि की है।

पार्टी के नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याणसिंह, विनय कटियार, उमा भारती जैसे नेताओं को फंसाने के लिए यह एक साजिश की गई थी।लेकिन अदालत ने इस मामले के सभी 32 आरोपियों को निर्दोष करार देते हुए इस साजिश का पर्दाफाश किया है। लिहाजा ऐसी साजिश करनेवाले राजनेताओं को अब देश से माफी मांगनी चाहिए।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned