बदलाव जीवन का ही एक प्राकृतिक भाग-देवेंद्रसागर

सुशीलधाम में धर्मसभा

By: Yogesh Sharma

Updated: 06 Jan 2020, 05:37 PM IST

बेंगलूरु. लोगों का यही मानना होता है की समय और तारीख के बदलते ही जिंदगी भी बदलती है। लेकिन वास्तव में जिंदगी का बदलाव किसी निश्चित तारीख या समय पर निर्भर नहीं करता। बल्कि यह तो सतत चलने वाली हर किसी के जीवन में होने वाली प्रक्रिया है। यह बात आचार्य देवेंद्रसागर ने सुशीलधाम में कही। उन्होंने कहा कि जिंदगी हमेशा चलती रहती है। जीवन में यदि कोई चीज स्थिर है तो वह बदलाव है।
कभी-कभी बदलाव हमारे लिए अच्छा भी हो सकता है और कभी-कभी हमारे विरुद्ध भी हो सकता है। लोग बदलाव को जिंदगी की सबसे बड़ी चीज मानते हंै। क्योकि बदलाव हममें से हर किसी के जीवन में होता ही है। बदलाव जीवन का ही एक प्राकृतिक भाग है। हमें बदलाव को बिना किसी विरोध के अपनाना चाहिए। साधारणत: सामान्य लोगों को बदलाव से काफी डर लगता है। क्योकि उन्हें इस बात का डर होता है की कही बदलाव से वे विपरीत परिस्थितियों में न फंस जाएं। या फिर कहीं वह अपनी वर्तमान सफलता न खो बैठे। यह सिद्ध हो चुका है की किसी के भी खिलाफ लडऩे से वह आपको और ज्यादा खराब बनाते है। बदलाव हमेशा अलग-अलग नहीं होते। जब आप बदलाव का सामना करते हो तो उस से आपको गुस्सा, अशांति, दर्द, चिंता और तकलीफ हो सकती है क्योंकि उस समय आपको नकारात्मक प्रतिक्रिया मिलती रहती है। उन्होंन कहा कि आनंदमय जीवन जीने के लिए आपको यह सलाह देना चाहूंगा कि जीवन में बदलाव को खुुशी से अपनाएं। अपनी महत्वपूर्ण उर्जा को गुस्सा करने में चिंता करने में या लडऩे में व्यर्थ न करें। बल्कि अपनी उर्जा को अच्छी आदतों में लगाएं।
यदि बदलाव से आपका कोई आर्थिक नुकसान होता है तो ज्यादा चिंतित मत होइए क्योकि शारीरिक और मानसिक नुकसान की तुलना में आर्थिक नुकसान काफी छोटा होता है। बदलाव को अपने विकास का अवसर समझें,उसे विकास के नजरिए से देखें और उसे हंसी खुुशी अपनाएं। नई परिस्थितियों का, नयी चुनौतियों का हमेशा स्वागत करें। आपमें सच का सामना करने की और उसे सुनने की आदत होनी चाहिए। तभी आप अपने लक्ष्य को हासिल कर सकते हो। हमेशा याद रखें की हर नकारात्मक परिस्थिति भविष्य में आपके लिए सकारात्मकता के बीज बोए रखती है। यदि आपने कोई पुराणी चीज खो दी है तो डरिये मत भविष्य में आपको उस से भी अच्छी चीज मिल सकती है। यदि आप बदलाव को चुनौतियों और अवसर की तरह स्वीकार करो तो आपका जीवन समृद्ध जीवन बन सकता है। अंत में हमेशा ये विचार स्वयं के पास रखे की जो कुछ भी हुआ अच्छे के लिए हुआ। जो कुछ भी हो रहा है अच्छे के लिए हो रहा है और,जो कुछ भी होगा अच्छा ही होगा।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned