जयकारों के बीच अर्पणप्रभ विजय का चातुर्मास प्रवेश

  • वीवीपुरम में हुआ स्वागत सामैया

By: Santosh kumar Pandey

Published: 12 Jul 2021, 06:56 AM IST

बेंगलूरु. आदिनाथ जैन श्वेताम्बर संघ, चिकपेट, के तत्वावधान में सम्भवनाथ जैन मंदिर, वी.वी.पुरम में गणिवर्य अर्पणप्रभ विजय, साध्वी विरतिप्रभाश्री आदि ठाणा का चातुर्मास प्रवेश हुआ।

प्रात: बाजे-गाजे के साथ मंदिर से सामैया के साथ प्रस्थान हुआ। जैन विद्यालय के पास सामैया के बाद जयकारों के बीच संभवनाथ परिसर में प्रवेश हुआ। आराधना भवन में चातुर्मास प्रवेश समारोह, प्रवचन आदि कार्यक्रम हुए।

संतों को गुरू पूजन का लाभ संघ के अध्यक्ष प्रकाश राठौड़ एवं कांबली ओढ़ाने का लाभ शांतीलाल नागोरी परिवार ने लिया। कार्यक्रम में संघ के ट्रस्टियो की उपस्थिति रही। संगीतकार कमलेश एवं साथियों ने गुरू भक्ति गीत की प्रस्तुति दी। व्यवस्था संभवनाथ जैन मंडल की ओर से की गई।

मोह ही दुख का कारण: साध्वी
नेहरू नगर में प्रवचन
बेंगलूरु. नेहरू नगर में साध्वी भव्यगुणाश्री, साध्वी शीतलगुणाश्री ने कहा कि जीवन के सारे दुखों का कारण दुनिया के लोगों और पदार्थों के प्रति हमारा मोह है। हमारा मोह जितना अधिक होगा, दु:ख भी उतने ही अधिक होंगे।

साध्वी भव्यगुणा ने कहा कि हमेशा यह याद रखना है कि हम जीवन के रंग-मंच पर केवल एक कलाकार हैं जो परमात्मा द्वारा सौंपी गई भूमिका अदा कर रहे हैं।

साध्वी शीतलगुणाश्री ने कहा कि कलाकार सुख या दु:ख महसूस नहीं करता क्योंकि वह जानता है कि वह सिर्फ अभिनय कर रहा है।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned