आवास ऋण में देरी ना करें बैंक

बैंकों की शिथिलता पर सीएम ने जताई नाराजगी

By: Sanjay Kulkarni

Updated: 12 Feb 2021, 05:54 AM IST

बेंगलूरु. प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई), राज्य किफायती आवास योजना तथा प्रधान मंत्री स्व निधि योजना के अंतर्गत ऋण मंजूरी की प्रक्रिया में देरी पर नाराजगी व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने बैंकों को इन योजनाओं के अंतर्गत आवेदकों को शीघ्र ऋण देने के निर्देश दिए।

विधानसौधा सभागार में आवासीय ऋण योजनाओं की समीक्षा के लिए बैंकर्स की बैठक में उन्होंने कहा कि बैंकों के ऋण देने में देरी के कारण इस मामले मेंराज्य अपेक्षित गति से आगे नहीं बढ़ रहा है। ये सभी योजनाएं गरीब वर्गों से जुड़ी हैं और इनको प्राथमिकता दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ बैकों के अधिकारी आवेदकों से विभिन्न किस्म के दस्तावेजों की मांग कर रहे हैं। परिणामस्वरूप ऐसे सैकड़ों आवेदनों का निपटारा नही हो रहा है। उनके कार्यालय में प्रति दिन ऐसी सैकड़ों शिकायतें पहुंच रही हैं। आवेदकों के दस्तावेजों में भी कई खामियां निकालकर इस प्रक्रिया में देरी की जा रही है।

अन्य राज्यों में इस योजना के अंतर्गत ऋण देकर आवासों का निर्माण तेजी से किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि इस मामले में राज्य पिछड़ रहा है और इसके लिए बैंक के अधिकारी जिम्मेदार हैं। दोनों योजनाओं में अभी तक किए गए ऋण वितरण से पता लग जाता है कि राज्य मंथर गति से चल रहा है। बैकों को सहयोग करते हुए ऋण मंजूर करने की प्रक्रिया में तेजी लानी होगी। अभी तक 2 लाख 24 हजार 338 आवेदनों में से केवल 66 हजार 423 आवेदकों को ऋण दिया गया है।

पिछले साल जुलाई में शुरु हुई इस योजना के अंतर्गत ठेले पर व्यापार करनेवालों को ७ फीसदी ब्याज पर १० हजार रुपए तक ऋण दिया जाता है। पीएमएवाई क्रेडिट लिंक स्कीम के तहत ५३६५ आवेदकों को ही मंजूरी दी गई है जो दूसरे राज्यों की तुलना में काफी कम है। राज्य किफायती आवास योजना के तहत ३.४६ लाख मकानों के निर्माण को मंजूरी दी गई है जिसमें से १.१६ लाख मकानों के निर्माण के लिए कार्य आदेश जारी हुए हैं। लेकिन, सिर्फ १९,६५८ मकानोंं का निर्माण ही पूरा हो सका है। आवास योजनाओं के ऋण आवेदन १५ दिनों में प्रशासन बैंकों को भेज देता है। इनका निपटारा यथाशीघ्र किया जाना चाहिए।

बैठक में उप मुख्यमंत्री डॉ सीएन अश्वथनारायण, आवास मंत्री वी सोमण्णा, सरकार के मुख्य सचिव पी रविकुमार, अपर मुख्य सचिव वंदिता शर्मा, भारतीय रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक जोस जे कट्टूर, केनरा बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned