एक बच्चा भी धर्म को पीएम से बेहतर समझता है: राहुल

एक बच्चा भी धर्म को पीएम से बेहतर समझता है: राहुल

Sanjay Kumar Kareer | Updated: 21 Mar 2018, 08:17:59 PM (IST) Chikmagalur, Karnataka, India

राहुल गांधी ने चिक्कमगलूरु में इंदिरा को किया याद, डोकलाम पर सरकार को घेरा

बेंगलूरु. राज्य में दो दिवसीय चुनावी दौरे के आखिरी दिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धर्म के नाम पर झूठ बोलने वाला बताया और कहा कि एक चौदह साल का बच्चा भी धर्म को उनसे बेहतर समझता है। चिकमगलूरु में जनसभा को संबोधित करते हुए राहुल ने अपनी दादी इंदिरा गांधी को भी याद किया जिन्होंने आपातकाल के बाद 1978 के उपचुनाव में यहां से जीत दर्ज वापसी की थीं।

राहुल ने यात्रा के दूसरे और अंतिम दिन की शुरुआत चिक्कमगलूरु के नजदीक स्थित शृंगेरी शारदा पीठ मंदिर में दर्शन के साथ की। राहुल के साथ राज्य के मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या भी मौजूद रहे। उन्होंने पीठ के प्रमुख से भी मुलाकात की। इसके बाद एक सभा को संबोधित किया।


सभा में राहुल ने कहा कि 'आज शृंगेरी मठ में दर्शन के दौरान मैंने देखा कि वहां जरूरतमंद बच्चों को पढ़ाया जाता है। मैंने उन बच्चों से पूछा कि आपका धर्म क्या है। इस सवाल पर एक चौदह साल के बच्चे ने कहा कि धर्म का अर्थ है- सत्यमेव जयते। सभी बच्चों ने सत्य को ही धर्म की व्याख्या बताया। इसके बाद राहुल ने प्रधानमंत्री से मुखातिब होते हुए कहा कि एक 14 साल के बच्चे को अपने धर्म का मतलब समझ में आता है मगर देश के प्रधानमंत्री को अपना धर्म समझ में नहीं आता।

इंदिरा का जिक्र, सहयोग का वादा

चिक्कमगलूरु की जनता से समर्थन की भावुक अपील करते हुए राहुल ने कहा कि 'आपने मुसीबत के समय इंदिरा जी का साथ दिया, इस बात को मैं कभी नहीं भूल सकता। जब भी आपको मेरी जरूरत होगी। आपके एक इशारे पर मैं आपके सामने खड़ा हो जाउंगा।Ó उन्होंने आगे कहा कि 'मैं इस मंच पर खड़े होकर आपसे झूठे वायदे नहीं करूंगा क्योंकि मैं आपकी इज्जत करता हूं। आपका समय खराब नहीं करूंगा लेकिन मैं आज आपको इस मंच से कहूंगा कि चाहे वो शिक्षा के बारे में हो या स्वास्थ्य के बारे में, मैं उसे करके दिखाउंगा।Ó

डोकलाम में पांव पसार रहा चीन

कांग्रेस अध्यक्ष ने फिर एक बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की विदेश नीति में विफल रहने, किसानों से किए वादे पूरा नहीं करने और झूठ बोलने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि वादे के मुताबिक प्रधानमंत्री ने न तो किसी के अकाउंट में 15 लाख रुपए डाले और ना ही रोजगार दिया। किसानों को उनकी फसल का सही दाम भी नहीं मिल रहा। चीन डोकलाम में बैठा हुआ है। सड़कें, हेलीपैड, एयरपोर्ट बना रहा है। पूरा हिंदुस्तान इस बात को जानता है मगर हमारे प्रधानमंत्री के मुंह से एक शब्द नहीं निकलता है।

प्यार की भाषा सुनना चाहते हैं लोग

उन्होंने तल्ख लहजे में कहा कि प्रधानमंत्री जब कहते हैं कि 70 साल में कुछ नहीं हुआ तो इसका मतलब, आपके दादा-दादी, माता-पिता ने कुछ नहीं किया। अमरीका का राष्ट्रपति समझ सकता है कि हिंदुस्तान के किसान-मजदूर और आप लोगों ने हिंदुस्तान को खड़ा किया है। जबकि, प्रधानमंत्री करोड़ों हिंदुस्तानियों का अपमान करते हैं। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान अपने प्रधानमंत्री से प्यार की भाषा सुनना चाहता है ना कि नफरत की भाषा। यही धर्म की व्याख्या है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned