पटाखे लेकर स्कूल पहुंच रहे बच्चे

पटाखे लेकर स्कूल पहुंच रहे बच्चे

Rajendra Shekhar Vyas | Publish: Sep, 04 2018 08:51:40 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

केएएमएस ने स्कूल व अभिभावकों को चेताया

बेंगलूरु. शहर के कुछ निजी स्कूलों के बच्चों द्वारा पटाखे लेकर स्कूल आने का मामला प्रकाश में आया है। बच्चे एक-दूसरे पर इन पटाखों को फेंक कर खेल भी रहे हैं। इन पटाखों की खास बात यह है कि इन्हें चलाने के लिए आग लगाने की जरूरत नहीं पड़ती। ये पटाखे जोर से ठोस सतह पर फेंके जाएं तो आवाज के साथ फट जाते हैं।
एसोसिएटेड मैनेजमेंट ऑफ इंग्लिश मीडियम स्कूल्स इन कर्नाटक (केएएमएस) के महासचिव डी. शशिकुमार ने बताया कि बीते कुछ सप्ताह से कई स्कूल शिकायत कर रहे थे कि बच्चे हैंड ग्रेनेड पटाखे लेकर स्कूल आ रहे हैं। इनमें पांच वर्ष के बच्चे तक शामिल हैं। जिसके बाद केएएमएस ने सभी स्कूलों को एहतियाती कदम उठाने के संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए थे। शशिकुमार ने बताया कि ताजा मामले में सोमवार को तीन स्कूलों के बच्चे इन पटाखों के साथ खेलते हुए स्कूल परिसर में पकड़े गए।
स्कूल प्रशासन ने पटाखों को जब्त कर अभिभावकों को सूचित किया। अभिभावकों को चाहिए कि बच्चों की गतिविधियों पर वे विशेष ध्यान दें। सल्फर और गन पाउडर के साथ अन्य रसायनिक मिश्रण वाले ये पटाखे विशेष कर बच्चों के स्वास्थ्य पर खतरनाक प्रभाव डालते हैं। खेल-खेल में पटाखों के फटने से हादसा भी हो सकता है।

Jain university

जैन विवि का दीक्षांत समारोह
74 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक
3067 को मिली उपाधि
बेंगलूरु. जैन विश्वविद्यालय के आठवें दीक्षांत समारोह का शुभारंभ राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद के निदेशक प्रो. एस.सी. शर्मा ने किया। इस अवसर पर उन्होंने विभिन्न श्रेणियों में स्नातक के 74 विद्यार्थियों को स्वर्ण पदक देकर सम्मानित किया। कुल 3067 विद्यार्थियों को स्नातक की डिग्री दी गई। समारोह को संबोधित करते हुए प्रो. शर्मा ने कहा कि मौजूदा शिक्षा प्रणाली को सांस्कृतिक दृष्टिकोण से समझने की जरूरत है। शिक्षा और चरित्र निर्माण एक ही सिक्के के दो पहलू होने चाहिए। अनुशासन व लगन के बल पर ही लक्ष्य की प्राप्ति की जा सकती है। उन्होंने डिग्री धारकों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि जीवन में सफलता हासिल करने के बाद देश और समाज को लाभान्वित करना चाहिए।

Ad Block is Banned