कर्नाटक में छठी से आठवीं के लिए 22 फरवरी से खुलेंगे स्कूल

- शिक्षा मंत्री ने की घोषणा : मानक संचालन प्रक्रिया जल्द
- केरल से आने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए कोविड निगेटिव प्रमाण-पत्र जरूरी

By: Nikhil Kumar

Published: 17 Feb 2021, 03:38 PM IST

बेंगलूरु. छठी से आठवीं कक्षा के विद्यार्थियों के लिए प्रदेश के स्कूल 22 फरवरी से खुल जाएंगे। प्राथमिक व माध्यमिक शिक्षा मंत्री एस. सुरेश कुमार ने मंगलवार को एक संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर इसकी घोषणा की। हालांकि, केरल की सीमा से लगे जिलों में केवल आठवीं कक्षा के लिए स्कूल खुलेंगे। कक्षा छह और सात के लिए जिला उपायुक्त कोविड की स्थिति के आधार पर स्कूल खोलने का निर्णय लेंगे।

केरल में कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए सरकार ने एहतियातन यह निर्णय लिया है। कोविड तकनीकी सलाहकार समिति (टीटीएसी) से चर्चा के बाद स्कूल खोलने पर सहमति बनी।

पहली से पांचवीं कक्षा के बच्चों के लिए विद्यागम शुरू करने की योजना
शिक्षा मंत्री ने कहा कि पहली से पांचवी कक्षा के बच्चों के लिए सरकार विद्यागम शिक्षा कार्यक्रम शुरू करना चाहती है। इस संबंध में वे टीटीएसी के सदस्यों के साथ विचार-विमर्श करेंगे। 24 या 25 फरवरी को बैठक होनी है। वर्ष 2021-22 के लिए प्रदेश में शैक्षणिक वर्ष 15 जुलाई से शुरू होगी।

अनुमति पत्र अनिवार्य
मंत्री ने कहा कि अभिभावक, शिक्षाविद, स्कूल विकास और निगरानी समिति लंबे समय से स्कूल खोलने की मांग कर रहे थे। लेकिन सरकार चरणबद्ध तरीके से स्कूल खोलना चाहती थी। उन्होंने स्पष्ट किया कि कक्षाएं शुरू होने के बावजूद किसी अभिभावक पर बच्चों को स्कूल भेजने का दबाव नहीं रहेगा। अभिभावकों के अनुमति पत्र पर ही बच्चों को स्कूल में प्रवेश की इजाजत मिलेगी।

केरल से आने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों के लिए कोविड निगेटिव प्रमाणपत्र अनिवार्य है। अगले कुछ दिनों में स्कूलों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया जारी होगी। स्कूल संचालकों को इसका सख्ती से पालन करना होगा।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned