'स्वस्थ वायु' वेंटिलेटर का चिकित्सकीय परीक्षण जल्द

एनएएल ने स्वदेशी तकनीक से किया है विकसित

By: Rajeev Mishra

Published: 24 Jul 2020, 10:46 PM IST

बेंगलूरु.
वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआइआर) से संबद्ध राष्ट्रीय वांतरिक्ष प्रयोगशाला (एनएएल) के वैज्ञानिकों द्वारा कोविड-19 सहित श्वसन संबंधी रोगों के उपचार के लिए विकसित 'स्वस्थ वायु' वेंटिलेटर का चिकित्सकीय परीक्षण जल्द ही यहां एक निजी अस्पताल में शुरू होगा। एनएएल ने इसकी जानकारी दी है।

एनएएल में इलेक्ट्रोनिक्स विभाग के मुख्य वैज्ञानिक डॉ सीएम आनंद ने कहा है कि इस उपकरण का परीक्षण कृत्रिम फेफड़े पर किया गया है। इसे राष्ट्रीय परीक्षण और अंशांकन प्रयोगशाला प्रत्यायन बोर्ड (एनएबीएल) के इलेक्ट्रिकल सुरक्षा, वर्किंग सिस्टम, असेसमेंट और जैव-अनुकूलता से जुड़े कड़े परीक्षणों में प्रभावी पाया गया है। यह उपकरण सेंट्रल ड्रग रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीडीआरआइ) और सेंट्रल ड्रग्स स्टैंडर्ड कंट्रोल ऑर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) जैसी नियामक संस्थाओं में पंजीकृत है।

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस वेंटिलेटर का उपयोग गहन चिकित्सा कक्ष (आइसीयू) में किया जा सकता है। स्वस्थ वायु वेंटिलेटर को एनएएल के वैज्ञानिकों ने मणिपाल अस्पताल के विशेषज्ञ डॉ.सत्यनारायण और सीएसआइआर इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटिग्रेटिव बायोलॉजी (आइजीआइबी) के निदेशक अनुराग अग्रवाल के साथ मिलकर विकसित किया है। डॉ सत्यनारायण ने बताया कि 'स्वस्थ वायु' बाय-लेवल मोड (बी-पैप), निरंतर पॉजिटिव एयर-वे-मोड (सीपीएपी), त्वरित मोड, नॉन वेंटिलेटेड मास्क से जुड़े थ्रीडी प्रिंटेड-हेपा-टी-फिल्टर एडॉप्टर जैसी खूबियों से लैस है। इसमें ऑक्सीजन कंसंट्रेटर को बाहर से जोड़ा जाता है। मणिपाल अस्पताल में नीतिगत मामलों की समिति एवं वैज्ञानिक समिति ने डॉ सत्यनारायण की देखरेख में इस वेंटिलेटर के चिकित्सकीय परीक्षण को मंजूरी दे दी गई है। डा सत्यनारायण ने कहा कि यह वेंटिलेटर महामारी के बाद भी विभिन्न बीमारियों, स्लीप डिसऑर्डर व अन्य कई बीमारियों केइलाज में उपयोगी साबित हो सकता है। परीक्षण जल्द शुरू होगा। यह काफी किफायती है और इसे स्वदेशी उपकरणों और तकनीक के इस्तेमाल से तैयार किया गया है।

coronavirus
Rajeev Mishra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned