मंत्रिमंडल विस्तार को लेकर धर्मसंकट में हैं सीएम येडियूरप्पा

-मंत्रिमंडल का विस्तार का इंतजार लंबा खिंचने के आसार

मुख्यमंत्री येडियूरप्पा ने सुबह ही अपने निवास पर कहा कि शाह यदि भेंट का समय देते हैं तो वे चिकमगलूर, दावणगेरे, शिवमोग्गा जिलों के दौरे सहित तमाम कार्यक्रम रद्द कर दिल्ली जाने को तैयार हैं। हालांकि बुलावा नहीं आया, इसलिए मुख्यमंत्री इन जिलों के दौरे पर निकल गए।

बेंगलूरु. राज्य मंत्रिमंडल के बहुप्रतीक्षित विस्तार के संबंध में चर्चा करने के लिए मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से समय नहीं मिल पा रहा है। संभावना थी कि सीएम बुधवार को दिल्ली जाएंगे, लेकिन अब यह दौरा भी रद्द हो गया है।


एक ओर शाह से समय नहीं मिलने और दूसरी ओर नव निर्वाचित विधायकों के दबाव के बीच मुख्यमंत्री कुछ कर पाने की स्थिति में नहीं हैं। येडियूरप्पा से मिलने में शाह की आनाकानी से विपक्षी दल कांग्रेस के नेताओं को तंज कसने का अवसर मिल गया है। अब सीएम के विदेश प्रवास पर जाने से पहले मंत्रिमंडल के विस्तार की उम्मीदें भी धूमिल हो गई हैं। मुख्यमंत्री 25 जनवरी की शाम तक दावोस से लौटेंगे, लिहाजा मंत्रिमंडल का विस्तार माह के अंत तक अटक सकता है।


सभी कार्यक्रम छोड़ दिल्ली जाने को तैयार हैं येडि
मुख्यमंत्री येडियूरप्पा ने सुबह ही अपने निवास पर कहा कि शाह यदि भेंट का समय देते हैं तो वे चिकमगलूर, दावणगेरे, शिवमोग्गा जिलों के दौरे सहित तमाम कार्यक्रम रद्द कर दिल्ली जाने को तैयार हैं। हालांकि बुलावा नहीं आया, इसलिए मुख्यमंत्री इन जिलों के दौरे पर निकल गए।

सूत्रों का कहना है कि येडियूरप्पा ने शाह से गुजारिश की है कि वे 16 जनवरी को मुलाकात का समय तय करें, लेकिन इस बारे में अभी तक कोई सकारात्मक संकेत नहीं मिले हैं।
जिलों के प्रवास के बाद मुख्यमंत्री गुरुवार शाम 5 बजे बेंगलूरु आएंगे। इसके अगले दिन शाम को अमित शाह हुब्बली पहुंचेंगे। हुब्बली में 18 जनवरी को सीएए के समर्थन में रैली में भाग लेने के बाद ही मुख्यमंत्री शाह से मंत्रिमंडल के विस्तार के मसले पर चर्चा कर सकते हैं।


सूत्रों का कहना है कि 19 जनवरी को सुबह मुख्यमंत्री स्विट्जरलैंड के दावोस में आयोजित विश्व आर्थिक मंच के सालाना सम्मेलन में भाग लेने के लिए रवाना होना है। ऐसे में शाह से हरी झंडी मिलने के बावजूद मुख्यमंत्री के पास मंत्रिमंडल के विस्तार के लिए समय नहीं बचेगा और इस तरह उनके विदेश यात्रा से लौटने के बाद ही प्रक्रिया शुरू हो सकेगी। बहरहाल, मंत्री पद के दावेदार के. गोपालय्या व उमेश कत्ती ने मंगलवार सुबह मुख्यमंत्री के निवास पर उनसे चर्चा की।

Surendra Rajpurohit Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned