scriptCome, let me show you the picture of India... | आओ, तुमको भारत की तस्वीर दिखाता हूं... | Patrika News

आओ, तुमको भारत की तस्वीर दिखाता हूं...

locationबैंगलोरPublished: Jan 31, 2024 02:28:10 pm

  • देशभक्ति के गीतों से सजी काव्य गोष्ठी

sahitya_sadhakl.jpg
बेंगलूरु. साहित्यिक संस्था साहित्य साधक मंच के तत्वावधान में संस्था का 198 वां कार्यक्रम जेपी नगर स्थित लायंस क्लब के सभागार में केंद्रीय अनुवाद ब्यूरो के पूर्व क्षेत्रीय प्रभारी ईश्वरचंद्र मिश्र की अध्यक्षता, दिल्ली की प्रसिद्द साहित्यकार पुनीता सिंह के मुख्य आतिथ्य और कन्नड़ कवयित्री पूर्णिमा भगवान के विशिष्ट आतिथ्य में आयोजित की गई। कार्यक्रम का शुभारम्भ पद्मा श्रीनिवासन वसुधा प्रस्तुत मां वाणी की वंदना से हुआ। प्रथम सत्र में मंजू वेंकट ने अज्ञेय की सुप्रसिद्ध रचना असाध्य वीणा का पाठ करते हुए सारगर्भित व्याख्या प्रस्तुत किया। दूसरे सत्र में काव्य गोष्ठी में कवियों ने अपनी उत्कृष्ट कवितायें सुना कर श्रोताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया। अध्यक्ष ईश्वरचंद्र मिश्र ने मेरी कई छोटी बातों को मन में लाते हो बेटा,बात बात में मुझसे क्यों टकराते हो, मुख्य अतिथि पुनीता सिंह ने अवधपुरी में उमड़ पड़ा है पूरा हिंदुस्तान आदि कविताओं से वाहवाही लूटी। राही राज, भूपेंद्र सिंह कटाक्ष, रजनी शाह, प्रीति राही, प्रभात रंजन, राधेश्याम यादव, सुधा अहलूवालिया, प्रतीक्षा तिवारी,कविता प्रभा, दीपक पांडेय मंजू वेंकट ने, उर्मिला श्रीवास्तव, सूबेदार रामस्वरूप, नारायण सिंह, भार्गवी रविंद्र, अंजू भारती ने मोहक काव्य पाठ किया। ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने आओ तुमको भारत की तस्वीर दिखाता हूं कविता का पाठ करते हुए राष्ट्रीयता के भाव भरे। सुधा दीक्षित, पद्मा श्रीनिवासन वसुधा के अलावा डॉ रणजीत सहित अन्य कवियों ने भी अपनी श्रेष्ठ कविताओं का पाठ कर कार्यक्रम की गरिमा को विस्तार प्रदान किया।संचालन मंच के अध्यक्ष ज्ञानचंद मर्मज्ञ ने किया।

ट्रेंडिंग वीडियो