कर्नाटक के विपक्षी नेता बोले- पाला बदलने वाले पूर्व विधायकों ने खुद खोल दी पोल

ऑपरेशन कमल के दावे की पुष्टि, विपक्ष-मुझे और रेवण्णा को सरकार पतन का जिम्मेदार बताया, सच्चाई सामने आ गई है: कुमारस्वामी

बेंगलूरु. पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि पाला बदलने वाले पूर्व विधायकों रमेश जारकीहोली और एएच विश्वनाथ की स्वीकारोक्ति से ऑपरेशन कमल को लेकर किए जा रहे उनके दावे की पुष्टि हुई है। जारकीहोली और एएच विश्वनाथ ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि उन्होंने किस तरह गठबंधन सरकार गिराई और भाजपा सरकार के गठन में किस तरह भूमिका निभाई। यहां शनिवार को पत्रकारों से बातचीत करते हुए कुमारस्वामी ने कहा कि कुछ नेताओं ने उन्हें और एचडी रेवण्णा को सरकार के पतन के लिए जिम्मेदार ठहराया। लेकिन, अब यह स्पष्ट हो गया है कि वास्तव में क्या हुआ और सरकार कैसे गिरी। कुमारस्वामी ने कहा रमेश जारकीहोली के इस बयान से कि उन्होंने सरकार गिराने की आठ बार कोशिशें की यह साबित हो जाता है कि सरकार गिराने के पीछे किसका हाथ था।

जारकीहोली और विश्वनाथ के बयानों से भाजपा एक्सपोज

सिद्धरामय्या वहीं पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धरामय्या ने कहा कि सरकार के पतन में किसका हाथ था यह साबित करने के लिए कुछ भी नहीं बचा है। हालांकि, भाजपा इसका बार-बार खंडन करती रही है। अपना हाथ होने से इनकार करती रही है लेकिन, दल-बदल किसने करवाया और सरकार किसने गिराई यह इन नेताओं की स्वीकारोक्ति से पता चल जाता है। गौरतलब है कि रमेश जारकीहोली के अलावा एएच विश्वनाथ ने भी सार्वजनिक रूप से स्वीकार किया था कि वे चामराजनगर के सांसद वी.श्रीनवास के कहने पर भाजपा में शामिल हुए। सिद्धरामय्या ने कहा कि विश्वनाथ और जारकीहोली के बयानों से भाजपा एक्सपोज हो गई है और ऑपरेशन कमल साबित हो गया है।

Rajeev Mishra
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned