कांग्रेस नेता का विवादास्पद बयान, दामाद से अनुभव क्यों नहीं पूछा जाता

विधान परिषद में संविधान पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के सीएम इब्राहिम के बयान पर भाजपा सदस्यों ने हंगामा किया। भाजपा की सदस्य तेजस्विनी रमेश ने इब्राहिम से बयान को वापस लेने की मांग की।

By: Santosh kumar Pandey

Published: 19 Mar 2020, 08:54 PM IST

बेंगलूरु. विधान परिषद में संविधान पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के सीएम इब्राहिम के बयान पर भाजपा सदस्यों ने हंगामा किया। भाजपा की सदस्य तेजस्विनी रमेश ने इब्राहिम से बयान को वापस लेने की मांग की। इब्राहिम ने बयान पर स्पष्टीकरण देना शुरू किया तो आक्रोशित तेजस्विनी ने बयान को महिलाओं का अपमान करार देते हुए सदन से बर्हिगमन किया।

तेजस्विनी के बर्हिगमन के बाद भाजपा सदस्य एन रविकुमार, अरुण शाहपुर, सुब्रमणी, वाई नारायणस्वामी इब्राहिम से यह बयान वापस लेने की मांग करने लगे। इस दौरान कांग्रेस तथा जनता दल (एस) के सदस्य भाजपा की मांग का विरोध करने लगे और सदन का माहौल गर्मा गया।

सदन के नेता देवस्थान मंत्री कोटा श्रीनिवास पुजारी ने भी बयान पर आपत्ति दर्ज की। नेता प्रतिपक्ष एसआर पाटिल तथा जनता दल (एस) के नेता बसवराज होरट्टी ने इब्राहिम को समझाते हुए बयान वापस लेने की अपील की तब इब्राहिम ने बयान वापस ले लिया। उसके पश्चात सदन में हालात सामान्य हो गए।

इससे पहले इब्राहिम ने कहा कि हर क्षेत्र में रोजगार देने से पहले प्रत्याशी को पूछा जाता है उसे कितना तजुर्बा है। लेकिन जब हम अपनी पुत्री की शादी करते हैं, तो दामाद को तजुर्बा नहीं पूछा जाता है। इस बयान पर सदन में काफी देर तक हंगामा चला। भाजपा के वाई नारायणस्वामी ने इब्राहिम पर पलटवार करते हुए सवाल दागा कि क्या इब्राहिम ने उनके दामाद को तजुर्बा पूछा था? इस पर इब्राहिम ने कहा कि उनकी आठ पुत्रियां है तीन की शादी हुई है। और 5 की शादी करना बाकी है। उन पर किसी महिला का अपमान करने का आरोप कैसे लगाया जा सकता है?

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned