केपीसीसीआइ भवन उद्घाटन के लिए कांग्रेस नेताओं में होड़

केपीसीसीआइ भवन उद्घाटन के लिए कांग्रेस नेताओं में होड़

Sanjay Kumar Kareer | Publish: Jun, 28 2018 09:39:43 PM (IST) Bengaluru, Karnataka, India

धन के अभाव में निर्माण कार्य मंथर गति से

बेंगलूरु. कांग्रेस में चल रही खींचतान के कारण प्रदेश कांग्रेस समिति के नए कार्यालय भव का निर्माण भी अटक गया है। गुटबाजी के कारण इसके उदघाटन का श्रेय लेने की होड़ लग गई है जबकि अभी तक भवन का काम पूरा नहीं हुआ है और इसके लिए फंड भी नहीं जुट पा रहा।

क्वींस रोड पर निर्माणाधीन भवन लगभग 90 फीसदी पूरा हो गया है। राज्य में कांग्रेस की सरकार के रहते निर्माण तेजी से हुआ। अब गठबंधन सरकार में इस भवन के निर्माण के लिए अपेक्षित धन उपलब्ध नहीं होने के कारण पिछले 3 माह से निर्माण बेहद धीमा हो गया है। प्रदेश अध्यक्ष डॉ जी. परमेश्वर ने ही इसका शिलान्यास किया था। वे चाहते हैं कि उनके कार्यकाल में ही भवन का उद्घाटन भी हो जाए।

दूसरी ओर परमेश्वर का विरोधी गुट प्रदेश अध्यक्ष के पद पर परिवर्तन करवाने के बाद राहुल गांधी से इसका उद्घाटन करवाना चाहता है। इसलिए यह गुट नए अध्यक्ष की नियुक्ति के लिए आलाकमान पर दबाव बना रहा है। डॉ.परमेश्वर भी इसका उद्घाटन अगले दो माह में कराने का हरसंभव प्रयास कर रहे हैं।

कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में हर कैबिनेट मंत्री से 5-5 लाख तथा विधायकों से 1-1 लाख रुपए की राशि निर्माण के लिए संग्रहित की गई थी। साथ में विधानसभा चुनाव के टिकट के लिए आवेदन करने वालों से भी 10 से 25 हजार रुपए राशि संग्रहित की गई थी। तब इस भवन के निर्माण के लिए धन की आपूर्ति की कोई समस्या नहीं होने से भवन का निर्माण कार्य तेजी से चला।

बताया जाता है कि पांच मंजिले भवन के निर्माण पर अब तक 25 करोड़ रुपए खर्च हुए हैं। बताया जाता है कि इसे पूरा करने के लिए अभी भी 5-7 करोड़ रुपए की जरूरत है। गठबंधन सरकार में मंत्री बनने का अवसर नहीं मिलने से नाराज कांग्रेस नेता अब इसके निर्माण में रूचि नहीं दिखा रहे हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned