जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस के कारण लागू नहीं हो सका संविधान

जम्मू-कश्मीर में कांग्रेस के कारण लागू नहीं हो सका संविधान
जगत प्रकाश नड्डा

Santosh Kumar Pandey | Updated: 23 Sep 2019, 03:48:32 PM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

Constitution could not apply in Jammu and Kashmir due to Congress says BJP working president JP Nadda. जगत प्रकाश नड्डा ने पैलेस मैदान में संविधान के अनुच्छेद ३७० निष्क्रिय करने के संबंध में जन जागरूकता अभियान में शिरकत की।

बेंगलूरु. भाजपा के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा ने पैलेस मैदान में संविधान के अनुच्छेद ३७० निष्क्रिय करने के संबंध में जन जागरूकता अभियान में शिरकत की।

नड्डा ने कहा कि स्वतंत्रता के बाद संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू- कश्मीर राज्य को विशेष दर्ज देना कांग्रेस की ऐतिहासिक भूल थी और इस गलती के कारण ही देश का संविधान जम्मू-कश्मीर में लागू नहीं हो पाया। देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने केवल व्यक्तिगत हितों के कारण देश की जनता की भावनाओं के खिलाफ शेख अब्दुला के साथ समझौता किया किया। जिसके दुष्परिणाम करोड़ों भारतीयों को भुगतने पड़े। इस राज्य को विशेष दर्जा देने के कारण दूसरे राज्यों के लोगों को वहां पर बसने या जमीन जायदाद खरीदने का अधिकार नहीं था, जिसकी वजह से वहां पर आतंकवाद पनपा।

कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर के बारे में देश की जनता को गुमराह किया और अफवाहें फैलाई कि 370 को हटाने पर देश में उथल-पुथल मच जाएगी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने धारा 370 को निष्क्रिय करने का साहसिक कदम उठाया है और अब इस राज्य में हालात सुधरते जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 एक अस्थायी प्रावधान के तौर पर शामिल गया था, लेकिन बाद में सत्ता में आए दलों ने वोट बैंक की राजनीति के चलते इसे जारी रखा। यहां तक कि संविधान के निर्माता डॉ. बीआर आंबेडकर भी अनुच्छेद 370 के खिलाफ थे, लेकिन कुछ लोगों की साजिश के कारण यह व्यवस्था लागू रही।

केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 को कलंक करार देते हुए कहा कि इसे हटाने का श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह को जाता है। कांग्रेस की सत्ता की भूख के कारण देश की स्वाधीनता के लिए संघर्ष करने वालों का त्याग व बलिदान व्यर्थ चला गया। सारे विश्व ने स्वीकार कर लिया है कि घाटी से अनुच्छेद 370 को हटाना अंतरराष्ट्रीय नहीं, बल्कि भारत का अंदरूनी मसला है।

कार्यक्रम में उप मुख्यमंत्री गोविंद कारजोल, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष नलिन कुमार कटील, मंत्री वी. सोमण्णा, भाजपा के प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव, सांसद तेजस्वी सूर्या, पीसी मोहन सहित पार्टी के कई विधायक व पदाधिकारियों ने भाग लिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned