Flipkart पर लगा भारी भरकम जुर्माना, जानिए क्यों ?

Flipkart पर लगा भारी भरकम जुर्माना, जानिए क्यों ?
Flipkart

Priya Darshan | Updated: 12 Oct 2019, 12:50:17 AM (IST) Bangalore, Bangalore, Karnataka, India

Consumer court fined Flipkart

ग्राहक को बैट के बदले भेज दिया था कोट

बेंगलूरु. एक ग्राहक को सही उत्पाद देने में विफल रहने और ग्राहक की शिकायत के बावजूद गलत उत्पादक को नहीं बदलना फ्लिपकार्ट का भारी पड़ा है। शिवमोग्गा में उपभोक्ता अदालत ने फ्लिपकार्ट को अनियमित सेवा का दोषी मानते हुए एक लाख रुपए का जुर्माना लगाया है।

जिला उपभोक्ता विवाद निवारण फोरम ने फ्लिपकार्ट इंटरनेट प्राइवेट लिमिटेड, उसके सह-संस्थापक और कार्यकारी निदेशक सचिन बंसल और ई-कार्ट को सेवा में कमी और ग्राहक को धोखा देने का दोषी पाया है।

शिकायतकर्ता ग्राहक वादिरराज राव ने वर्ष 2017 में अपने मोबाइल फोन से फ्लिपकार्ट पर एसजी प्लेयर संस्करण इंग्लिश विलो क्रिकेट बैट का ऑर्डर दिया। फ्लिपकार्ट के ई-कार्ट के एक डिलीवरी बॉय ने 10 अप्रैल 2017 को वादिरराज से 6,074 रुपए लेने के बाद एक पार्सल दिया। राव ने जब पार्सल खोला, तब उसमें क्रिकेट बैट की जगह एक काला कोट था। इससे हतप्रभ राव ने उत्पाद को बदलने के लिए फ्लिपकार्ट से संपर्क किया।

हालांकि फ्लिपकार्ट से कई बार अनुरोधों करने के बाद राव का सामान नहीं बदला। करीब दो वर्ष के बाद अंतत: परेशान होकर राव ने इस साल 13 मई को शिवमोग्गा उपभोक्ता फोरम का दरवाजा खटखटाया और फ्लिपकार्ट से मुआवजा मांगने का मामला दर्ज कराया।

सी एम चंचला और मंजुला एच वाली उपभोक्ता फोरम की एक पीठ ने दलीलें सुनीं और फ्लिपकार्ट, उसके सह-संस्थापक और कूरियर सेवा को मामले में दोषी पाया। फोरम ने फ्लिपकार्ट पर जुर्माना लगाने के साथ ही फ्लिपकार्ट को याचिकाकर्ता को छह सप्ताह में सही उत्पाद देने के लिए कहा है। फोरम ने उत्तरदाताओं को सेवा में कमी के लिए उपभोक्ता को 50,000 रुपये के मुआवजे का भुगतान करने का भी निर्देश दिया। पीठ ने कहा कि उपभोक्ता को मानसिक पीड़ा हुई और उपभोक्ता ने याचिका दायर करने और सुनवाई पर जो खर्च किया है उसके लिए उसे मुआवजा मिलना चाहिए। वहीं शेष 50 हजार रुपए का जुर्माना अन्य मद में लगा है।

यदि फ्लिपकार्ट और अन्य उत्तरदाता मुआवजे का भुगतान करने में विफल रहते हैं, तो उन्हें 10 प्रतिशत वार्षिक ब्याज के साथ भुगतान करना होगा। उपभोक्ता न्यायालय ने स्पष्ट रूप से कहा कि फ्लिटकार्ट और अन्य उत्तरदाताओं ने अनैतिक प्रथाओं का पालन किया और ग्राहक को धोखा दिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned