scriptControversy over keeping Dalit cook in Anganwadi | आंगनबाड़ी में दलित रसोइया के रखे जाने से विवाद | Patrika News

आंगनबाड़ी में दलित रसोइया के रखे जाने से विवाद

- कई अभिभावकों ने जताई आपत्ति

बैंगलोर

Published: June 23, 2022 08:58:09 am

- पुलिस ने चेताया
- बीदर जिले की घटना

बीदर जिले के एक आंगनबाड़ी में Untouchability का मामला सामने आया है। खाना बनाने के लिए Dalit Cook रखने पर उच्च जाति के कई अभिभावकों ने अपने बच्चों को आंगनबाड़ी में भेजने से मना कर दिया और रसोइए को हटाने की मांग करने लगे।

आंगनबाड़ी में दलित रसोइया के रखे जाने से विवाद
आंगनबाड़ी में दलित रसोइया के रखे जाने से विवाद

पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने रविवार को संबंधित माता-पिता के साथ बैठक कर उन्हें समझाया कि भारत के संविधान में प्रत्येक जाति, वर्ग, समुदाय के नागरिकों को समानता का दर्जा प्रदान किया गया है। समाज में जाति धर्म के आधार पर भेदभाव करना कानूनन जुर्म है। किसी को भी यह अधिकार नहीं है कि वह छुआछूत और जाति भेद कर समाज में अशांति फैलाए। जो अभिभावक समझाइश के बावजूद नहीं माने, उन्हें पुलिस ने चेतावनी दी है।

दरअसल, बीदर जिले के आंगनबाड़ी में एक दलित महिला को बच्चों के लिए खाना बनाने को रखा गया। लेकिन, कई अभिभावकों के विरोध के बाद बाल विकास योजना अधिकारी ने अभिभावकों को समझाने के बजाय महिला को दूसरी नौकरी तलाशने के लिए कहा।

मामला प्रकाश में आने के बाद महिला एवं बाल विकास विभाग हरकत में आया। अधिकारियों ने सभी को समझाया और अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम से अवगत कराया। लेकिन, कुछ अभिभावक अब भी अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। पुलिस अधिकारियों ने उन्हें कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।

असफलता से हताश नहीं हो विद्यार्थी: कुमारस्वामी

बेंगलूरु. पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने द्वितीय पीयू परीक्षा का रिजल्ट आने के बाद विभिन्न जिलों में 8 विद्यार्थियों की आत्महत्या करने पर चिंता जताई।

उन्होंने यहां रविवार को ट्वीट कर कहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव, सफलता-असफलता, अनुकूल प्रतिकूल परिस्थितियों का धैर्य तथा साहस के साथ सामना करना चाहिए। परीक्षाओं में सफलता ही जीवन का अंतिम लक्ष्य नहीं हो सकता। आज के दौर में युवाओं के पास विकल्पों की कोई कमी नहीं है। किसी परीक्षा में कम अंक मिलने या अनुत्तीर्ण होने पर खुदकुशी करना सही नहीं है।

उन्होंने कहा कि दुनिया में ऐसी कई मिसाल देखने को मिलती हैं कि स्कूल की परीक्षा में कम अंक प्राप्त करने वाले कई लोगों ने अन्य क्षेत्रों में अपनी कुशलता के बलबूते पर सफलता हासिल की और कई कीर्तिमान भी स्थापित किए हैं। हमें ऐसे लोगों के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

कौन हैं जस्टिस सूर्यकांत, जिन्होंने नुपूर शर्मा को लगाई फटकार, कोर्ट में अपने ही खेत से हुई चोरी की सुना चुके हैं दास्ताननुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीउदयपुर घटना की जिम्मेदार, टीवी पर माफी, सस्ता प्रचार...10 बिंदुओं में जानें Nupur Sharma को Supreme Court ने क्या-क्या कहा?Mumbai Rains: मुंबई में भारी बारिश के चलते जनजीवन पर असर, कई इलाकों में भरा पानी; IMD ने जारी किया ऑरेंज अलर्टहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडामुकेश अंबानी फूड एंड बेवरेज रिटेल बिजनेस में रखेगे कदम, ब्रिटेन की कंपनी से मिलाया हाथ'ऐसे बॉलीवुडिया और झूठे फेक्ट की वजह से मरा कन्हैयालाल', Swara Bhaskar का वीडियो शेयर कर निर्देशक ने कही ये बात, लोग बोले - 'आप भी तो इंडस्ट्री से हो'AUS vs SL: मैच के दौरान कोविड पॉज़िटिव पाये गए एंजेलो मैथ्यूज, तीन दिन में खत्म हुआ टेस्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.