कर्नाटक : मई पहले सप्ताह में चरम पर रह सकता है कोरोना

- माह के अंत में राहत की उम्मीद
- आर्थिक गतिविधियों पर कोई अंकुश नहीं (No curbs on economic activities)

By: Nikhil Kumar

Published: 12 Apr 2021, 09:25 AM IST

बेंगलूरु. कर्नाटक के विशेषज्ञों ने चेताया है कि मई के पहले सप्ताह में कोरोना वायरस संक्रमण सबसे ज्यादा परेशान कर सकता है। हालांकि, मई के अंत में इससे राहत मिलने की उम्मीद (Karnataka may witness peak by May first week and slowdown by end of May) भी है। इन संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए आगे की रणनीति तय करनी होगी।

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने रविवार को यह बात कही। कोविड तकनीकी सलाहकार समिति (टीएसी) के सदस्यों के साथ बैठक के बाद उन्होंने कहा कि मई के अंत तक बेहद सावधान रहने की जरूरत है। यदि मामले ज्यादा बढ़ते हैं तो स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे पर बोझ पड़ेगा। टीएसी के विशेषज्ञों ने सुझाव दिया है कि सीमाओं पर सतर्कता बरती जाए। कोविड के ज्यादा मामलों वाले राज्यों से कर्नाटक आने वालों की अच्छी तरह से जांच हो। कोविड को लेकर टीएसी जल्द ही अपनी रिपोर्ट सौंपेगी। मुख्यमंत्री के साथ चर्चा के बाद आगे की रणनीति तय करेंगे।

टेली-आइसीयू प्रणाली को मजबूज करने की आवश्यकता
डॉ. सुधाकर ने कहा कि निजी अस्पताल प्रबंधनों ने सरकार को अपना समर्थन दिया है। कर्नाटक टेली-आइसीयू (tele-ICU) शुरू करने वाला देश के पहले राज्यों में से एक है। निजी अस्पतालों ने भी इसका उपयोग किया है। इस प्रणाली को और मजबूत करने की आवश्यकता है। आर्थिक गतिविधियों को प्रभावित करने वाले सुझावों पर विचार नहीं किया जाएगा।

53 फीसदी लाभार्थी महिलाएं
डॉ. सुधाकर ने कहा कि राज्य को अब तक कोरोना टीके की 72 लाख खुराक मिली है। इसमें से 61 लाख खुराक का इस्तेमाल हुआ है। 53 फीसदी लाभार्थी महिलाएं हैं। महिलाएं रोल मॉडल बनी हैं।

अनियमितता और लापरवाही बर्दाश्त नहीं
डॉ. सुधाकर ने कहा कि वे अस्पतालों और टीकाकरण केंद्रों का औचक निरीक्षण जारी रखेंगे। अनियमितताओं और लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। यदि लोग जागरूक हैं और सहयोग करते हैं तो आर्थिक गतिविधियों पर अंकुश लगाने या लॉकडाउन की जरूरी नहीं पड़ेगी।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned