अस्पताल से चाय पीने बाहर आया कोरोना मरीज, लोग चाय फेंककर भागे

  • मरीज के परिजनों ने अस्पताल पर लगाया लापरवाही का आरोप
  • कहा, चाय मिल गई होती तो वे बाहर नहीं जाते

By: Santosh kumar Pandey

Published: 02 Jul 2020, 04:00 PM IST

बेंगलूरु. मैसूरु में एक कोरोना पॉजिटिव (corona positive) वरिष्ठ नागरिक (73) को जब अस्पताल में चाय नहीं मिली तो वह तलब पूरी करने के लिए चुपचाप बाहर निकले और चाय की दुकान पर पहुंच गए।

उसके हाथ में वीगो का निशान देखकर जब चाय पी रहे लोगों ने उनसे पूछा तो बड़ी सहजता से खुद को कोरोना पॉजिटिव बताया और चाय की चुस्कियां लेने लगे। लेकिन तब तक वहां खड़े दूसरे लोगों के होश फाख्ता हो चुके थे। लोग चाय का कप फेंककर भागने लगे।

चाय दुकानदार ने भी बुजुर्ग मरीज से वहां से जाने के लिए कहा लेकिन वे माने नहीं। दुकानदार नारायण ने दुकान बंद की और अस्पताल जाकर प्रशासन को सूचना दी। काफी देर बात अस्पताल प्रशासन बुजुर्ग को अस्पताल ले जाने में कामयाब हुआ।

अस्पताल में ही एम्बुलेंस की प्रतीक्षा कर रहे थे

बताया जाता है कि बुजर्ग मरीज को कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कोविड-19 केयर अस्पताल रेफर किया गया था। वे अस्पताल में ही एम्बुलेंस की प्रतीक्षा कर रहे थे लेकिन इसी बीच चाय की तलब की वजह से वे बाहर आए थे।

उनके अनुसार उन्होंने सुबह कई बार अस्पताल कर्मियों से चाय की मांग की लेकिन उन्हें चाय मुहैया नहीं कराई गई। बुजुर्ग के परिजनों ने भी अस्पताल पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कहा कि अस्पताल को डेढ़ लाख रुपए का भुगतान किए जाने के बावजूद चाय भी नहीं दी गई। अस्पताल में चाय मिल गई होती तो वे बाहर नहीं जाते।

Corona virus COVID-19 virus
Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned