चिकित्सकों के लिए वरदान साबित होगा क्यूबिकल

दपरे की हुब्बल्ली कार्यशाला में बनाया
संक्रमण से बचाने में निभाएगा अहम भूमिका

By: Yogesh Sharma

Published: 18 Apr 2020, 12:27 AM IST

बेंगलूरु. दक्षिण पश्चिम रेलवे कोविड-19 के प्रसार को ब्रेक करने के लिए नित नए आविष्कार करने में जुटा हुआ है। रेलवे ने हुब्बल्ली स्थित वर्कशॉप में (CONTACTLESS DIAGNOSTIC CENTRE FOR DOCTORS TO TREAT COVID-19) संपर्क रहित क्यूबिकल बनाकर एक अभिनव आविष्कार किया है। संदिग्ध कोविड-१९ के मरीजों का उपचार करने वाले डॉक्टरों का रोगियों के साथ सीधा शारीरिक संपर्क न हो इसके लिए क्यूबिकल बनाया गया है। अस्पतालों में चिकित्सकीय दिशा निर्देशों के अनुसार प्रोटोकॉल के बावजूद, वायरस कोविड-१9 से संक्रमित होने वाले डॉक्टरों का परीक्षण करने वाले डॉक्टरों के संक्रमित होने का खतरा रहता है।
हुब्बल्ली वर्कशॉप द्वारा विकसित किए क्यूबिकल का उपयोग डॉक्टरों द्वारा वायरस को पकडऩे से बचाने के लिए किया जा सकता है। यह पारदर्शी क्यूबिकल डॉक्टर को रोगी के साथ अलग-थलग रहने में मदद करेगा। प्रत्येक परीक्षण के बाद, चैंबर से बाहर निकलने वाले दस्ताने को बदल दिया जाएगा और चैंबर के बाहरी और आंतरिक को साफ कर दिया जाएगा। परीक्षण और पीपीई (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट) के लिए यह क्यूबिकल मरीजों के इलाज के लिए कार्यशाला में बनाया जा रहा है। डॉक्टरों और नर्सों- को कोविड-१९ के खिलाफ जंग में एक योद्धा के रूप में चिकितसकों व चिकित्सालय स्टाफ की मदद करेगा।

Yogesh Sharma Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned