सबसे बड़ी समस्या है सांस्कृतिक आतंकवाद: देवकीनंदन

भगवान श्रीराम के संपूर्ण चरित्रों का वर्णन करना असंभव है। जब तक ये सृष्टि है तब तक भगवान की नित्य नई लीला होती रहेगी। यह बात अलग है कि हम सभी उसे नहीं पहचान पाते। भगवान हमारे साथ नित्य नई लीला करते हैं।

बेंगलूरु. विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट एवं विश्व शांति सेवा समिति बेंगलोर के तत्वावधान एवं पंडित देवकीनंदन ठाकुर के सान्निध्य में 10 से 16 जनवरी तक प्रतिदिन श्रीराम कथा का आयोजन किया गया। ठाकुर ने कथा के सप्तम दिवस पर रावण वध एवं राम के राजतिलक का वृतांत भक्तों को श्रवण कराया। शुरूआत आरती और विश्व शांति के लिए प्रार्थना के साथ हुई।

ठाकुर ने कहा कि भगवान श्रीराम के संपूर्ण चरित्रों का वर्णन करना असंभव है। जब तक ये सृष्टि है तब तक भगवान की नित्य नई लीला होती रहेगी। यह बात अलग है कि हम सभी उसे नहीं पहचान पाते। भगवान हमारे साथ नित्य नई लीला करते हैं। उन्होंने कहा कि कभी कभी भगवान को भी भक्तों से काम पड़ता है। अगर भक्त ना हों तो भगवान की कौन पूजा करेगा। कलयुग के भक्त तो भगवान के विशेष प्रिय हैं। उन्होंने शबरी की भक्ति का वर्णन किया।

अपनी संस्कृति को मत भूलो
सांस्कृतिक आतंकवाद का उल्लेख करते हुए कहा कि मात्र 70 साल में हमारे मूल विचारों में बहुत गिरावट आ गई है। इन 70 सालों में हम आगे जाने के बजाय बहुत पीछे चले गए हैं। चीन, यूरोप, मलेशिया आदि का उदाहरण देते हुए कहा कि उन्होंने अपनी संस्कृति को खत्म होने नहीं दिया। वहीं अगर हम अपनी संस्कृति की बात करें लोग हमारे ऊपर प्रश्नचिन्ह लगा देते हैं। हमारी संस्कृति है दूसरों का आदर करना। अगर हम दूसरों का आदर करेंगे तो निश्चित है कि आपको आदर मिलेगा। बंदूक के भय से आप आदर करवा सकते हैं लेकिन भाव से नहीं। भय के की गई पूजा, प्रशंसा ज्यादा समय नहीं टिकती।

सबसे बड़ी समस्या है सांस्कृतिक आतंकवाद: देवकीनंदन

जब भी कोई आदरणीय मिले तो नतमस्तक होकर प्रणाम करो। हमेशा अपनी संस्कृति पर भरोसा करो। जब हम अपने धर्म और संस्कृति पर पूर्ण विश्वास करेंगे, तब आप कभी अकेला महसूस नहीं करेंगे।
अंत में उन्होंने कहा कि राम का सारा जीवन जीवन को जीने के लिए एक सीख है। हमें प्रभु राम का अनुसरण करते हुए जीवन को जीना चाहिए, इससे हमारा कल्याण हो जायेगा।

Santosh kumar Pandey Desk
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned