scriptDakshina Kannada becomes a challenge before the health department | स्वास्थ्य विभाग के समक्ष चुनौती बना दक्षिण कन्नड़ | Patrika News

स्वास्थ्य विभाग के समक्ष चुनौती बना दक्षिण कन्नड़

  • नए मामलों व मृतकों की संख्या राज्य में सबसे ज्यादा

बैंगलोर

Published: August 22, 2021 01:03:07 pm

बेंगलूरु. अगस्त के पहले सप्ताह से ही सीमावर्ती दक्षिण कन्नड़ जिले में कोरोना के नए मामले तेजी से बढ़े थे। यह वही समय था जब पड़ोसी राज्य केरल में कोरोना के मामलों में बेतहाशा वृध्दि हुई थी। हालांकि तत्काल राज्य सरकार ने सीमा पर जांच व निगरानी बढ़ा दी थी लेकिन कोरोना के नए मामलों में वह लगातार सबसे आगे बना हुआ है और राज्य के जिलों में सबसे अधिक संख्या दर्ज कर रहा है।
यही नहीं, नए मामलों के साथ जिले मेें कोरोना से दम तोडऩे वालों की संख्या भी बढ़ी है।
swab_test_12.jpg
31 जुलाई को दक्षिण कन्नड़ जिले में कुल संक्रमित लोगों की संख्या 100370 थी जो कि 20 अगस्त को बढक़र 107351 हो गई। महज बीस दिनों में राज्य में लगभग 7,000 नए संक्रमित हुए हैं। वहीं मृतकों की संख्या देखें तो 31 जुलाई तक कोरोना जिले में 1421 लोगों की मौत का कारण बन चुका था जबकि 20 अगस्त को यह संख्या 1522 हो चुकी थी। महज बीस दिनों में जिले में 101 लोग कोरोना से दम तोड़ चुके हैं जबकि बेंगलूरु में 31 जुलाई को मृतकों की संख्या 15872 तक पहुंच चुकी थी और 20 अगस्त को यह संख्या 15956 हुई है। इस तरह से बीस दिनों में दक्षिण कन्नड़ जिला मृतकों की संख्या के मामले बेंगलूरु शहरी जिले को पीछे छोड़ चुका है। जबकि जनसंख्या के मामले में यह बेंगलूरु से बहुत पीछे है।
मामलों के बढऩे के कारणों की बात की जाए तो जिला स्वास्थ्य अधिकारी (डीएचओ) डॉ किशोर कुमार ने कहा कि पड़ोसी राज्य केरल से राज्य में प्रवेश करने वाले छात्र रोजाना नए मामलों का लगभग 15 प्रतिशत हिस्सा बनते हैं। भले ही उनके आरटी-पीसीआर परिणाम प्रवेश पर नकारात्मक हैं लेकिन उनमें से कई आने के लगभग एक सप्ताह बाद कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।
केरल से निकटता

दक्षिण कन्नड़ जिला केरल के कासरगोड जिले से सटा हुआ है। कासरगोड के लोग अपनी अधिकांश तात्कालिक जरूरतों के लिए मेंगलूरु की यात्रा करते हैं, क्योंकि यह शहर शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा का केंद्र है।
यह पूछे जाने पर कि क्या मामलों में वृद्धि को केरल के जिले की निकटता के लिए जिम्मेदार ठहराया जा सकता है, किशोर कुमार कहते हैं कि सीमा चौकियों पर जांच की वजह से कोरोना के संक्रमण पर नियंत्रण संभव हुआ है।
यह विरोध का समय नहीं

हाल ही में सीमा चौकियों पर कोविड दिशा-निर्देशों के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शनों के बारे में पूछे जाने पर अधिकारी ने कहा कि यह विरोध करने का नहीं बल्कि यह महसूस करने का समय है कि प्रत्येक नागरिक महामारी को बेहतर तरीके से रोकने में योगदान दे सकता है। दिशा-निर्देशों का पालन करने की आवश्यकता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Cash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतहो जाइये तैयार! आ रही हैं Tata की ये 3 सस्ती इलेक्ट्रिक कारें, शानदार रेंज के साथ कीमत होगी 10 लाख से कमइन 4 राशि वाले लड़कों की सबसे ज्यादा दीवानी होती हैं लड़कियां, पत्नी के दिल पर करते हैं राजमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतShani: मिथुन, तुला और धनु वालों को कब मिलेगी शनि के दशा से मुक्ति, जानिए डेटइन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडPost Office FD Scheme: डाकघर की इस स्कीम में केवल एक साल के लिए करें निवेश, मिलेगा अच्छा रिटर्न

बड़ी खबरें

Subhash Chandra Bose Jayanti 2022: महान हस्तियों के इतिहास को सीमित करने की गलतियों को सुधार रहा देश: पीएम मोदीभारत में कम्युनिटी ट्रांसमिशन स्टेज पर पहुंचा ओमिक्रॉन वेरिएंट - केंद्र सरकारUP Assembly Elections 2022 : पलायन और अपराध खत्म अब कानून का राज,चुनाव बदलेगा देश का भाग्य - गृहमंत्री शाहराजपथ पर पहली बार 75 एयरक्राफ्ट और 17 जगुआर का शौर्य प्रदर्शन, देखें फुल ड्रेस रिहर्सल का वीडियोIND vs SA: बेकार गया दीपक चाहर का संघर्ष, रोमांचक मुकाबले में 4 रन से हारी टीम इंडियाJEE Mains 2022: कब शुरू होंगे रजिस्ट्रेशन, चेक करें सब डिटेलCovid-19 Update: देश में बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 3.33 लाख नए मामले, 525 मरीजों की गई जानअब अहमदाबाद में खेले जाएंगे भारत-वेस्टइंडीज की वन डे सीरीज के सभी मैच
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.