नई ट्रेनें चलाने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा

विजयनगर रेलवे पैसेंजर एसोसियेशन व राष्ट्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्शदात्री परिषद के पूर्व सदस्य बाबूलाल. जी. जैन ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को ज्ञापन देकर कई नई ट्रेनों के संचालन की मांग है।

By: शंकर शर्मा

Published: 03 Mar 2019, 11:14 PM IST

हुब्बल्ली. विजयनगर रेलवे पैसेंजर एसोसियेशन व राष्ट्रीय रेलवे उपयोगकर्ता परामर्शदात्री परिषद के पूर्व सदस्य बाबूलाल. जी. जैन ने रेलवे बोर्ड के चेयरमैन को ज्ञापन देकर कई नई ट्रेनों के संचालन की मांग है।


ज्ञापन में जैन ने ट्रेन संख्या 07323/07324 हुब्बल्ली-चेन्नई-हुब्बल्ली एक्सप्रेस को स्थाई रूप से तुरंत चलाने की मांग की है। उन्होंने बताया कि वे कोप्पल के सांसद करडी संगण्णा के साथ गत दिनों रेलवे बोर्ड के चेयरमैन से दिल्ली में मिले थे। चेयरमैन ने ट्रेन तुरंत शुरू कराने का आश्वासन दिया।

ट्रेन संख्या 07323 07324 हुब्बल्ली-चेन्नई-हुब्बल्ली साप्ताहिक विशेष एक्सप्रेस गदग, होसपेट, रेनिगुंटा के माध्यम से चलाए जाने का प्रस्ताव रखा गया है। ट्रेन संख्या 56909/56910 होसपेटे-बेंगलूरु पैसेंजर ट्रेन को कोप्पल तक चलाए जाने की मांग रखी गई है।


वर्तमान में यह ट्रेन होसपेटे से बेंगलूरु तक वाया रायदुर्ग चलाई जा रही है। होसपेटे पहुंचने के बाद यह ट्रेन तीन घंटे तक रुकी रहती है। बेंगलूरु-होसपेटे- बेंगलूरु पैसेंजर (56909/56910) को कोप्पल तक विस्तारित करने के प्रस्ताव पर काम चल रहा है।

जैन ने होसपेटे-कोट्टूरु-हरिहर ट्रेन सेवा की वर्तमान स्थिति के बारे में जानकारी प्रदान करने की मांग रखी। उन्होंने बताया कि वर्तमान में हरिहर-कोट्टूर -हरिहर (५६५२९/५६५३०) पैसेंजर हरिहर तथा कोट्टूर के बीच चल रही है। अनंतशयनगुडी पर एलसी गेट क्रमांक ८५ के लिए पिछले साल के बजट में स्वीकृत किया गया है परंतु काम अभी तक कार्य शुरू नहीं किया गया है।


इसी प्रकार वर्ष २०१६-१७ के दौरान होसपेटे तथा बल्लारी के बीच नियंत्रण रेखा के बदले आरओबी स्वीकृत किया गया था। सामान्य व्यवस्था आहरण अनुमोदन के लिए प्रस्तुत किया गया था। बाबूलाल जैन ने विज्ञप्ति में कहा कि वे होसपेट रेलवे स्टेशन के प्रस्तावित रीमॉडलिंग के लिए शीघ्र कार्यान्वयन के लिए अनुरोध कर चुके हैं।


होसपेटे रेलवे स्टेशन का रीमॉडलिंग का कार्य १०.९८ करोड़ रुपये की लागत से चल रहा है जो प्रगति पर है। काम पूरा करने के लिए प्रयास किए जाएंगे। उन्होंने कई ट्रेनों में बदहाल हालात के बारे में भी बोर्ड चेयरमैन का ध्यान आकर्षित किया।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned