महिला पशु चिकित्सक के हत्यारों के लिए सजाए-ए-मौत की मांग

एक महिला पशु चिकित्सक ने कहा कि महिलाओं ने सभी क्षेत्रों में खुद का साबित और स्थापित किया है। लेकिन अब भी बाहर निकलने पर सुरक्षा का डर सताता है। घर, कार्यालय या सड़क, कहीं पर भी महिला, युवती और बच्ची तक सुरक्षित नहीं है। सुरक्षित कामकाजी माहौल उपलब्ध कराना सरकार और प्रशासन की नैतिक जिम्मेदारी है। आरोप साबित होने के बाद फांसी की सजा मिले।

By: Nikhil Kumar

Published: 03 Dec 2019, 09:28 PM IST

 

मृतक चिकित्सक को श्रद्धांजलि दी

बेंगलूरु.

हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक के साथ हुए अमानवीय बर्ताव और हत्या के विरोध में मंगलवार को शहर के फ्रीडम पार्क में कर्नाटक पशु चिकित्सक संघ, पशु चिकित्सा कॉलेज, कर्नाटक पशु चिकित्सक परिषद और सिलीकॉन सिटी केनेल क्लब के सदस्यों, पशु चिकित्सकों व विद्यार्थियों ने प्रदर्शन किया। उन्होंने मृतक चिकित्सक को श्रद्धांजलि दी और दोषियों को कड़ी सजा देकर न्याय दिलाने की मांग की।

उन्होंने फ्रीडम पार्क से जिला उपायुक्त कार्यालय तक रैली निकाल विरोध दर्ज कराया। उनकी मांग थी कि अपराधियों को जल्द से जल्द मौत की सजा सुनाई जाए। कर्नाटक पशु चिकित्सक संघ के अध्यक्ष डॉ. एस.सी.सुरेश कहा कि फास्ट ट्रैक कोर्ट में मामले की सुनवाई हो और आरोपियों को सबसे कड़ी सजा मिले। इस नृशंस घटना पर पूरे देश में दुख और गुस्से का माहौल है।

एक महिला पशु चिकित्सक ने कहा कि महिलाओं ने सभी क्षेत्रों में खुद का साबित और स्थापित किया है। लेकिन अब भी बाहर निकलने पर सुरक्षा का डर सताता है। घर, कार्यालय या सड़क, कहीं पर भी महिला, युवती और बच्ची तक सुरक्षित नहीं है। सुरक्षित कामकाजी माहौल उपलब्ध कराना सरकार और प्रशासन की नैतिक जिम्मेदारी है। आरोप साबित होने के बाद फांसी की सजा मिले।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से महिला सुरक्षा और बेहतर भारत की मांग करते हुए एक अन्य छात्रा ने कहा कि पशु चिकित्सक का अपहरण कर दुष्कर्म किया गया और फिर उसकी हत्या कर शव को जला दिया गया। इस प्रकार की घटना देश का शर्मसार करने वाली है। तेलंगाना सरकार के रवैये और पुलिस की कार्रवाई संतोषजनक नहीं है। निर्भया कांड के बाद स्थिति बदलने की उम्मीद थी लेकिन सच्चाई सबके सामने है। महिला पशुचिकित्सक के साथ जो हुआ वो कल किसी के साथ भी हो सकता है। डर का माहौल कायम है। घर से बाहर निकलने तक में असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। ऐसी घिनौनी हरकत करने वालों को ऐसी सजा हो जो अपराधियों के बीच डर पैदा करे। डॉ. शिवराम ए. डी., डॉ. एस.सी.सुरेश, डॉ. नागराज और डॉ. मल्लिकार्जुन ने भी प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

Show More
Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned