'नानी बाई रो मायरो' कथा सुनने उमड़े भक्त

कथा के दौरान नृत्य में गोपी भाव तथा बाल व्यास जया किशोरी की मधुर वाणी ने श्रोता भक्तों का मन मोह लिया

By: Ram Naresh Gautam

Published: 07 Jun 2018, 07:01 PM IST

बेंगलूरु. माहेश्वरी महिला मंडल की ओर से रजत वर्ष एवं पुरुषोत्तम मास के उपलक्ष्य में ओकलीपुरम स्थित माहेश्वरी भवन में बुधवार अपराह्न शुरू हुई तीन दिवसीय कथा 'नानीबाई रो मायरो' में बड़ी संख्या में भक्त उमड़े। दीप प्रज्ज्वलन और आरती के साथ प्रारंभ हुई कथा के दौरान नृत्य में गोपी भाव तथा बाल व्यास जया किशोरी की मधुर वाणी ने श्रोता भक्तों का मन मोह लिया।

'मेरा श्याम अलबेला...' की धुन पर उपस्थित श्रोता झूमने लगे। कथा शुरू होने से पहले कर्नाटक की धुन पर लाल चुंदड़ी के नीचे बाल व्यास जया किशोरी को धूमधाम के साथ व्यास पीठ पर लाया गया। मंडल की अध्यक्ष सुशीला बागड़ी, उपाध्यक्ष कान्ता काबरा, माहेश्वरी सभा के अध्यक्ष बसंत कुमार सारड़ा ने दुपट्टा व पुष्प माला पहना कर जया किशोरी का स्वागत सम्मान किया। सरोज डागा ने जया किशोरी का परिचय दिया तथा उपस्थित श्रद्धालुओं का स्वागत किया। शाम करीब सात बजे तक चली कथा का श्रोता भक्तों ने खूब आनंद लिया। इस दौरान संगीतमय भावों पर झूम उठे। कथा 8 जून तक प्रतिदिन अपराह्न 3 बजे से सायं 7 बजे तक माहेश्वरी भवन परिसर
में होगी।

-------

अचानक पैदा नहीं होते सुख-दुख

बेंगलूरु. श्रमण संघीय उपाध्याय प्रवर रवींद्र मुनि आदि ठाणा-6 बुधवार को सुबह मल्लेश्वरम स्थानक से पदविहार कर कुमारापार्क स्थित शांतिलाल बंबकी के निवास पर पहुंचे। धर्मसभा में मुनि ने कहा कि जीवन में दुख या सुख अचानक ही पैदा नहीं होते बल्कि इनके लिए हमारी कोशिशें ही जिम्मेदार हैं। सुख बेशक हमारा स्वभाव हो, पर उसके लिए सकारत्मकता, शांति के बीज मन की भूमि पर बोने होते हैं, वहीं दुख भी हमारे अज्ञान, अविवेक, बुरी आदतों की पैदावार है। लोग अज्ञान में जीते हैं इसलिए दुख झेलते हैं। अविवेकी मनुष्य को कोई और नहीं दुखी करता बल्कि उसका अविवेक ही उसके दुख की वजह बन जाता है।

सभा से पहले संतों की विहार सेवा में वद्र्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ चिकपेट शाखा के संरक्षक विजयराज लूणिया, अध्यक्ष ज्ञानचंद बाफना, कार्याध्यक्ष प्रकाशचंद बंब, महामंत्री गौतमचंद धारीवाल, शांतिलाल बंबकी, प्रकाशचंद ओस्तवाल, मनोहर बाफना, पीरचंद ओस्तवाल, प्रकाशचंद बाफना, युवा इकाई के अध्यक्ष पवन धारीवाल,मंत्री विनोद गुलेच्छा, उगमराज कांकलिया, महिला शाखा की अध्यक्षा रंजना गुलेच्छा, पुष्पा बोहरा सहित पदाधिकारी व कार्यकारिणी के सदस्य साथ रहे।

Ram Naresh Gautam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned