ग्रापं से शुरु किया था राजनीतिक सफर

पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा एक तरह से राजनीतिक हत्या

By: Sanjay Kulkarni

Published: 30 Dec 2020, 06:15 AM IST

बेंगलूरु. पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा है कि विधान परिषद के उप सभापति एसएल धर्मेगौड़ा की आत्महत्या, एक तरह से राजनीतिक हत्या है। इसकी सच्चाई बाहर आनी चाहिए। उनके जैसे जैसे सरल, सज्जन राजनेता दुर्लभ हैं।यहां बुधवार को उन्होंने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि इस मामले की जांच की आवश्यकता है। धर्मेगौड़ा जैसे बेहद संवेदनशील व्यक्ति के लिए मौजूदा असंवेदनशील राजनीतिक व्यवस्था में दायित्व निभाना आसान नहीं था।

उन्होंने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जब जनता दल- एस ने सभापति प्रतापचंद्र शेट्टी से समर्थन वापस लेने का पत्र जारी किया था तब कांग्रेस नेताओं को सभापति को त्यागपत्र देने के लिए कहना चाहिए था लेकिन कांग्रेस नेताओं की जिद के कारण हमने धर्मेगौड़ा जैसा एक संवेदनशील राजनेता खो दिया है। जब वे सभापति की पीठ पर आसीन थे तब कांग्रेस के नेताओं ने उनके साथ कैसा बर्ताव किया, इसे राज्य की जनता ने देखा है।घटना को भूल नहीं पाएउन्होंने कहा कि इस घटना के बाद पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौडा तथा उन्होंने धर्मेगौडा को भूल जाने की सलाह दी थी। लेकिन संभवत:उनके जैसे भावुक व्यक्ति के लिए इस घटना को भूलना संभव नहीं था। इस घटना के बाद वे मौन हो गए थे।

कांग्रेस नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

बेंगलूरु.कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राज्यसभा सदस्य मल्लिकार्जुन खरगे ने विधान परिषद के उपसभापति एसएल धर्मेगौडा के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि चिकमगलूर जिला सहकारिता क्षेत्र में योगदान देनेवाले एक महान साधक की आत्महत्या ने उनको झकझोर कर दिया है। प्रदेश कांग्रेस (केपीसीसी) के अध्यक्ष डीके शिवकुमार,कार्यकारी अध्यक्ष ईश्वर खंड्रे, सलीम अहमद, वरिष्ठ नेता दिनेश गुंडुराव ने धर्मेगौडा के निधन को राजनीति तथा सहकारिता क्षेत्र के लिए अपूरणीय क्षति बताया।

ग्रापं से शुरु किया था राजनीतिक सफर

चिकमगलूरु जिले के कडूर तहसील के सखरायपट्टना गांव में जन्मे धर्मेगौडा को कृषि तथा बागवानी क्षेत्र में विशेष रुचि थी। उन्होंने वर्ष 1987 में बिलीकल्लहल्ली ग्राम पंचायत अध्यक्ष के रुप में राजनीतिक सफर की शुरुआत की। वर्ष 1995 में वे लिंगदहल्ली क्षेत्र से चिकमगलूरु जिला पंचायत के सदस्य चयनित हुए।

इसी जिला पंचायत में वर्ष 2000 से देवनूर क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। चिकमगलूरु जिला सहकारिता बैंक में निदेशक समेत बैंक के अध्यक्ष पद का दायित्व निभाया। वे हासन जिला दुग्ध उत्पादक महासंघ में लगातार 26 वर्षों तक निदेशक पद पर रहे। इसके आलवा कर्नाटक दुग्ध उत्पादक महासंघ (केएमएफ) के निदेशक, अपेक्स सहकारिता बैंक के निदेशक तथा उपाध्यक्ष, चिकमगलूरु जनता बाजार के निदेशक, चिकमगलूरु जिला सहकारिता बैंक के अध्यक्ष तथा निदेशक पर सेवाएं दी। वर्ष 2004 में वे बिरुर विधानसभा क्षेत्र से विधायक बने। 25 जून वर्ष 2018 को वे विधान परिषद के उपसभापति बने।

Sanjay Kulkarni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned