निजी अस्पताल की लापरवाही से हुई महिला की मौत !

अस्पताल ने जांच भी नहीं की और स्वास्थ्य विभाग को मामले की जानकारी भी नहीं दी।

By: Nikhil Kumar

Published: 10 May 2020, 10:18 PM IST

बेंगलूरु. बेंगलूरु में कोरोना संक्रमित 56 वर्षीय महिला मरीज (पी- 846) की मौत में चिकित्सकों की लापरवाही और अस्पताल द्वारा समय पर स्वास्थ्य विभाग को सूचित नहीं करने का मामला सामने आया है। सांस लेने में दिक्कत के कारण महिला सबसे पहले चार मई को हेन्नूर के एक निजी अस्पताल गई थी। लेकिन चिकित्सकों ने श्वसन तंत्र में संक्रमण बता कर इसी का उपचार किया।

जिला स्वास्थ्य अधिकारी (बेंगलूरु शहरी) डॉ. के. श्रीनिवास ने भी इसे लापरवाही का मामला बताया है। उन्होंने कहा कि सांस लेने में दिक्कत व विशेष कर सिवीयर एक्यूट रेस्पिरेटरी इंफेक्शन (एसएआरआइ) के लक्षण वाले मरीजों को कोरोना वायरस के लिए जांचने के अनिवार्य निर्देश पहले ही जारी किए जा चुके हैं। लेकिन अस्पताल ने जांच भी नहीं की और स्वास्थ्य विभाग को मामले की जानकारी भी नहीं दी।

हालत बिगडऩे के बाद चिकित्सकों ने छह मई को महिला को एचबीआर लेआउट स्थित दूसरे अस्पताल रेफर कर दिया। इस अस्पताल के चिकित्सकों ने महिला को विक्टोरिया कोविड अस्पताल भेजा। जहां उपचार के दौरान सात मई को महिला ने दम तोड़ दिया। मौत के बाद महिला के नमूने जांच के लिए भेजे गए। शनिवार रात रिपोर्ट आई। जिसके अनुसार महिला कोरोना वायरस से संक्रमित थी।

इस मामले के बाद बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका के अधिकारियों ने दोनों अस्पताल को सील कर दिया है। यहां भर्ती मरीजों को अन्य अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। मरीज के संपर्क में आए चिकित्सकों व नर्सों को क्वारंटाइन किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार हेन्नूर स्थित अस्पताल का लाइसेंस रद्द किया जाएगा।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned