अयोग्य विधायक स्वतंत्रता सेनानी नहीं : सिद्धरामय्या

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या ने शनिवार को कहा कि अयोग्य विधायक कोई स्वतंत्रता सेनानी नहीं हैं, जो खुद को त्याग करने वाला बता रहे हैं। केवल सत्ता पाने के लिए पाला बदला है। ऐसे मौकापरस्त नेताओं को उपचुनाव में मतदाता सबक सिखाएंगे

अयोग्य विधायक स्वतंत्रता सेनानी नहीं : सिद्धरामय्या
कहा-सिर्फ सत्ता के लिए बदला है पाला
मैसूरु. विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष सिद्धरामय्या ने शनिवार को कहा कि अयोग्य विधायक कोई स्वतंत्रता सेनानी नहीं हैं, जो खुद को त्याग करने वाला बता रहे हैं। केवल सत्ता पाने के लिए पाला बदला है। ऐसे मौकापरस्त नेताओं को उपचुनाव में मतदाता सबक सिखाएंगे।
पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि अयोग्य विधायक चाहे जो तर्क पेश करें, लेकिन किसी भी हालत में इनके माथे पर लगा अयोग्यता का कलंक मिटना संभव नहीं है। जब कांग्रेस ऑपरेशन कमल के माध्यम से गठबंधन सरकार को अस्थिर करने का आरोप भाजपा पर लगा रही थी, तब भाजपा नेता 'कुछ भी लेना-देना नहींÓ कहते थे, लेकिन अब भाजपा ने अयोग्य विधायकों को प्रत्याशी बनाकर खुद को बेनकाब कर दिया है।
आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है मंत्री पद का वादा
सिद्धरामय्या ने दावा किया कि मुख्यमंत्री बीएस येडियूरप्पा ने पार्टी में शामिल सभी अयोग्य विधायकों को जीत के पश्चात मंत्री बनाने की बात कही है, यह चुनाव आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। उप चुनाव में जद-एस की रणनीति को लेकर उन्होंने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा कि जद-एस की किसी भी चुनाव में कोई नीति नहीं होती है। परिणाम के बाद नफा-नुकसान के आधार पर इस पार्टी की नीति तय होती है।
सरकारी संसाधनों का दुरुपयोग
एक अन्य सवाल पर उन्होंने कहा कि उप चुनाव में सफलता हासिल करने के लिए भाजपा सरकारी संसाधनों का दुरुपयोग कर रही है। अन्य पार्टियों के नेताओं को डराया-धमकाया जा रहा है। भाजपा ने चुनाव में पानी की तरह पैसा बहाने की तैयारी में है।

Sanjay Kulkarni
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned