जिला प्रभारी मंत्री ने जाहिर की बेबसी

जिला प्रभारी मंत्री ने जाहिर की बेबसी

Shankar Sharma | Publish: Oct, 14 2018 12:52:31 AM (IST) Bangalore, Karnataka, India

हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर निगम को छह-सात वर्षों से सरकार से 135 करोड़ रुपए बकाया पेंशन राशि आनी थी। अब इस पर पानी फिरने के हालात नजर आ रहे हैं।

हुब्बल्ली. हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर निगम को छह-सात वर्षों से सरकार से 135 करोड़ रुपए बकाया पेंशन राशि आनी थी। अब इस पर पानी फिरने के हालात नजर आ रहे हैं। पिछले माह शहर आए शहरी विकास मंत्री यू.टी. खादर ने कहा था कि पेंशन राशि को छोड़ दिया जाए। अब जिला प्रभारी मंत्री आरवी देशपांडे ने भी उन्हीं के सुर में बात की। जिससे यह पता चला कि आगामी दिनों में पेंशन राशि मिलना संभव नहीं है।

हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर निगम को 2011 से सरकार ने पेंशन राशि देना स्थगित किया था। महानगर निगम अपने आय से ही सेवानिवृत्त कर्मचारियों को पेंशन राशि दे रही थी। जबसे सरकार की ओर से पेंशन राशि नहीं मिलने की पुख्ता जानकारी मिली तब से महानगर निगम के पार्षदों ने आवाज उठाना शुरू किया था। बकाया पेंशन राशि का मुद्दा राजनीतिक संघर्ष का कारण बना, कई चरण के आंदोलन के लिए भी मंच के तौर पर परिवर्तित हुआ था। विधानसभा चुनाव के दौरान राजनीतिक अस्त्र के तौर पर इस्तेमाल हुआ था।

एक वर्ष पूर्व तत्कालीन महानगर निगम महापौर डीके चौहाण ने तत्कालीन मुख्यमंत्री सिध्दरामय्या को हुब्बल्ली हवाई अड्डे पर स्वागत कर बकाया पेंशन राशि देने की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपकर दबाव बनाया था। इस बीच कई बार महानगर निगम सर्वदलीय प्रतिनिधि मंडल ने स्थानीय विधायकों के साथ बेंगलूरु जाकर शहरी विकास मंत्री पर पेंशन राशि मंजूर करने की मांग को लेकर दबाव बनाया था। प्रदर्शन, दबाव में आकर आखिर में एक बार तत्कालीन मुख्यमंत्री सिध्दरामय्या ने बकाया पेंशन राशि मंजूर करने की घोषणा की थी। इसके तहत जून 2017 में 16 करोड़ रुपए मंजूर हुए थे लेकिन 119 करोड़ रुपए बकाया ही रह गया।

चुनौतियों का सामना करना सिखाते हैं शिविर
बल्लारी. युवाओं और विद्यार्थियों में आदर्श और उत्साह की अधिकता होती है। क्रियात्मक गतिविधियों में व्यस्त रहने के लिए एन.एस.एस. के शिविर सहायक होते हैं। ये विचार कानून सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव एस.बी. हंद्राल ने व्यक्त किए।


वे तालुका के सोमसमुद्र गांव में शहर के बालिका सरकारी पी.यू कालेज की ओर से आयोजित राष्ट्रीय सेवा योजना शिविर के उद्घाटन समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि केवल पारंपरिक शिक्षा से समाज की हर चुनौति का सामना करना संभव नहीं है। इस प्रकार के शिविर में शामिल होने से जाति धर्म से परे अनुभूति व सभी के साथ मिल-जुल कर चुनौतियों का सामना करने के गुण विकसित होते हैं। अध्यक्षता कालेज के प्राचार्य के.एम. महालिंगनगौड़ा ने की। उन्होंने बताया कि शिविर का लक्ष्य सेवा व वैज्ञानिक मनोवृत्ति के गुण विकसित करना है।


शिविर के अवसर पर गुरुवार सुबह जिला पतंजलि योग समिति के जिला संयोजक इश्वी पंपापति के नेतृत्व में नि:शुल्क योग ध्यान विज्ञान शिविर आयोजित किया गया। योग के आयाम युवा भारत की अध्यक्ष लक्ष्मी रेड्डी, स्टेडियम योग केंद्र के योग प्रशिक्षक गूलेप्पा बेल्लेकट्टे, शास्त्री नगर योग केंद्र के योग शिक्षक प्रकाश के नेतृत्व में सिखाए गए। इस अवसर पर प्राचार्य के.एम. महालिंगनगौडा, कार्यक्रम के अधिकारी यू. श्रीनिवास मूर्ति, कॉलेज के स्टाफ सहित गांव के गणमान्य उपस्थित थे।

Ad Block is Banned