बांह पर काली पट्टी बांध काम पर पहुंचे रेजिडेंट चिकित्सक

बीआइएमएस में हिंसा के विरोध में रेजिडेंट चिकित्सकों का प्रदर्शन

By: Nikhil Kumar

Published: 24 Jul 2020, 11:29 PM IST

- सुरक्षा व पीपीइ किट सहित सरकार के समक्ष रखी 11 मांगें

बेंगलूरु.

बेलगावी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस एंड हॉस्पिटल में (बीआइएमएस) बुधवार रात कोरोना मरीज की मौत के बाद हुई घटनाओं के विरोध में प्रदेश के अस्पतालों में रेजिडेंट चिकित्सकों ने प्रदर्शन किया। (Karnataka Association of Resident Doctors staged black badge protest in Bengaluru. They were protesting against the attack on healthcare workers. They also demanded stipend hike)

विक्टोरिया सरकारी अस्पताल, बोरिंग एंड लेडी कर्जन सरकारी अस्पताल, केसी जनरल सरकारी अस्पताल, जयनगर जनरल अस्पताल, वाणी विलास सरकारी अस्पताल सहित अन्य कई सरकारी व निजी अस्पतालों में चिकित्सकों ने शुक्रवार को बांह पर काली पट्टी बांध ड्यूटी की। चिकित्सक दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई सहित सुरक्षा की मांग कर रहे हैं।

कर्नाटक रेजिडेंट चिकित्सक संघ (केएआरडी) बैनर तले प्रदर्शन में शामिल चिकित्सकों ने व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीइ), स्वच्छ कार्यस्थल और वृत्तिका सहित सरकार के समक्ष कुल 11 मांगें रखी है। जिसके पूरा नहीं होने पर प्रदर्शन तेज करने की चेतावनी दी है।

केएआरडी के अध्यक्ष डॉ. दयानंद सागर ने कहा कि कोरोना महामारी के समय भी चिकित्सकों व नर्सों के खिलाफ हिंसा जारी है। केसी जनरल सरकारी अस्पताल में एक रेजिडेंट चिकित्सक और नर्स के साथ मारपीट हुई। बीदर जिले में भी चिकित्सकों को निशाना बनाया गया। सभी डर के माहौल में काम कर रहे हैं।

फेडेरेशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया, महाराष्ट्र स्टेट एसोसिएशन ऑफ रेजिडेंट डॉक्टर्स व इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने भी कर्नाटक सरकार से कार्रवाई की मांग की है।

ये हैं मांगें
-के सी जनरल अस्पताल की घटना में शामिल दोषियों की गिरफ्तारी और कड़ी कानूनी कार्रवाई।
- बेलगावी की घटना में शामिल दोषियों की गिरफ्तारी और कानूनी कार्रवाई।
- बीदर में चिकित्सकों पर अत्याचार की निंदा।
-अस्पताल व कोविड केयर केंद्रों में सुरक्षा नियमों का स ती से पालन। पर्याप्त सुरक्षा और पुलिस कर्मियों की नियुक्ति।
-महामारी के समय कोई पदानुक्रम या कैडर नहीं। सभी चिकित्सकों के लिए सामान्य कार्य पैटर्न।
-स्टाइपेंड बढ़ोतरी की स्वीकृत मांग के अनुसार भुगतान
-कोविड ड्यूटी व नाइट शिफ्ट भत्ता
-गैर-कोविड मरीजों के उपचार में लगे स्वास्थ्यकर्मियों के लिए भी एन-95 मास्क, फेस शील्ड व सर्जिकल गाउन आदि की उपलब्धता।
- कोविड के खिलाफ जारी जंग में अग्रिम मोर्चे पर तैनात चिकित्सकों व अन्य स्वास्थ्यकर्मियों के लिए अच्छी गुणवत्ता वाले व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीइ) किट, इनके संक्रमित होने पर आइसोलेशन व उपचार के लिए अलग वार्ड की व्यवस्था।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned