कोरोना की रफ्तार घटने से न हों भ्रमित : चिकित्सक

- कोरोना वायरस को उच्च जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्रों से अन्य क्षेत्रों में फैलने से रोकना हो प्राथमिकता

By: Nikhil Kumar

Published: 28 Oct 2020, 01:38 PM IST

बेंगलूरु. राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण की रफ्तार 50 फीसदी से ज्यादा घटी है। वायरस की सुस्ती अच्छे संकेत जरूर हैं। स्वास्थ्य विभाग और अस्पतालों पर मरीज का दबाव कम हुआ है। चिकित्सक, नर्स व अन्य स्वास्थ्यकर्मी राहत महसूस कर रहे हैं लेकिन चिकित्सकों ने चेताया है। घटते मामलों से भ्रमित नहीं होने और आगे की तैयारी दुरुस्त करने की सलाह दी है। नए मामले उन्हीं क्षेत्रों में कम हुए हैं जहां ज्यादा टेस्टिंग हो रही है।

कोविड तकनीकी सलाहकार समिति के सदस्य और महामारी रोग विशेषज्ञ डॉ. गिरिधर आर. बाबू ने बताया कि मामले घटे हैं। दैनिक मामलों व मौतों की संख्या में कमी का कारण अधिक संख्या में जांच करना है जिससे संक्रमण का जल्द पता चल रहा है। लेकिन हर जिले में ऐसा नहीं है। हर जिले में एक समान जांच नहीं हो पा रही है। जांच की रफ्तार के साथ मरीजों की संख्या बढ़ेगी। मामलों में कमी का दूसरा संकेत यह भी है कि संक्रमण उच्च जनसंख्या घनत्व वाले क्षेत्रों से अन्य स्थानों पर स्थानांतरित हो रहा है। जिसे रोकना प्राथमिकता होनी चाहिए।

प्रदेश में बीते दो दिनों से कोविड सैंपल की संख्या एक लाख से घटकर करीब 66 हजार पहुंच गई है। सोमवार को 65,892 और मंगलवार को 66,701 कोविड सैंपल जांचे गए। इनमें से 3,691 सैंपल में कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई जबकि 7,740 मरीज डिस्चार्ज हुए। अब तक संक्रमित 8,09,638 लोगों में से 7,27,298 लोगों ने कोरोना का मात दी है और 71,330 मरीज उपचाराधीन हैं। कोविड से कुल 10,991 मरीजों की मौत हुई है। इनमें से 44 मौतों की पुष्टि मंगलवार को हुई। 944 मरीज आइसीयू में भर्ती हैं।

Nikhil Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned